Monday, May 16, 2022
-->
mini-factory-busted-in-delhi-drugs-worth-more-than-100-crores-recovered-in-delhi

दिल्ली में ड्रग्स बनाने की मिनी फैक्ट्री का भंडाफोड़, 100 करोड़ से ज्यादा के ड्रग्स बरामद

  • Updated on 1/24/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के युवाओं में नशे का जहर पहुंचाने के लिए ड्रग्स तस्करों ने ड्रग्स की मिनी फैक्ट्री बना रखी थी। यहां पर ड्रग्स बना दिल्ली व एनसीआर में होने वाली पार्टियों में सप्लाई की जाती थी।

इसके अलावा म्याऊं-म्याऊं और केटामाइन इंजेक्शन दिल्ली में लाकर युवाओं को नशे के गिरफ्त में लेने चाहते थे। लेकिन स्पेशल सेल की टीम ने इस इंटरनेशन गिरोह का भंडाफोड़ कर एक विदेशी समेत छह ड्रग्स तस्करों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार तस्करों में एक ब्रिटिश नागरिक भी शामिल है।

हरिद्वार के पूर्व डीएम समेत कई अफसरों पर दर्ज होगा केस

तस्करों के पास से म्याऊं-म्याऊं नामक पाउडर से लेकर केटामाइन के इंजेक्शन और पार्टी ड्रग्स के रूप में इस्तेमाल होने वाली 13.50 लाख से ज्यादा नशीली गोलियां भी बरामद की है। इसके अलावा म्याऊं-म्याऊं नाम से मशहूर 10 किलो से ज्यादा ड्रग्स पाउडर मिला। यही नहीं पार्टी में नशे के इंजेक्शन और पाउडर के रूप में लिए जाने वाला केटामाइन भी भारी मात्रा में जब्त किया गया है।

बताया जा रहा है कि बरामद ड्रग्स की इंटरनेशनल बाजार में कीमत करीब 100 करोड़ रुपए है। गिरफ्तार तस्करों की पहचान सुनील कुमार उर्फ राजू, लोकेश मेहता, सतीश शाहू,नीरज अरोड़ा उर्फ सोनल,राजेश दत्ता उर्फ राज और राजेश नागर के रूप में हुई है।

डीसीपी संजीव यादव के अनुसार स्पेशल सेल की टीम बीते एक साल से मादक पदार्थ की तस्करी में लिप्त विभिन्न गिरोहों पर नजर जमाये हुए है। इस दौरान स्पेशल सेल ने कई गैंग का पर्दाफाश किया और अरबों रुपए की ड्रग्स इनके पास से बरामद की। हाल ही में उनकी टीम को सूचना मिली कि एक इंटरनेशनल गैंग पार्टी ड्रग्स का कारोबार कर रहा है।

सबरीमाला: मंदिर में प्रवेश करने पर महिला को मिली सजा, ससुराल पक्ष ने किया बेदखल

इस जानकारी पर स्पेशल सेल के एसीपी संजय दत्त के नेतृत्व में इंस्पेक्टर तिलक चंद बिष्ट और एएसआई महीलाल मीणा की टीम बनाई गई। उन्होंने इस गैंग के बारे में जानकारी जुटाना शुरू किया। इसी बीच एक सूचना के आधार पर सेल की टीम ने सबसे पहले जाल बिछाकर जनकपुरी के पास से कार सवार सुनील कुमार और लोकेश मेहता को गिरफ्तार किया

उनकी निशानदेही पर हरि नगर स्थित इनके गोदाम पर भी स्पेशल सेल की टीम ने छापा मारा। यहां पर उनका तीसरा साथी सतीश शाहू को गिरफ्तार कर लिया। उससे मिली जानकारी पर नीरज अरोड़ा और राजेश दत्ता को भी गिरफ्तार कर लिया गया। 

पाक में बैठे आका के आदेश पर चलता था ड्रग्स का खेल
विकास नगर स्थित जिस गोदाम से ड्रग्स बरामद हुआ। उसे श्रीलंका भेजने की तैयारी थी। पूछताछ में पता चला कि श्रीलंका समेत नेपाल, लंदन, यूके और मलेशिया तक यह ड्रग्स भेजा जाता था। इसके साथ ही दिल्ली के अलावा मुम्बई में भी सप्लाई की जाती थी।

रंगबाजी पड़ी महंगी, पिस्टल के खेल में गई एक युवक की जान

यह सारा खेल पाकिस्तान में बैठे उनके आका मजहर के इशारे पर होता है। पूछताछ में आरोपी राजेश दत्ता ने बताया कि वह लंदन से सिगरेट और शराब भारत में सप्लाई करता था। 6 साल पहले उसकी मुलाकात सतीश साहू से हुई और उसने नीरज अरोड़ा को शामिल कर लिया जो दवा का कारोबार करता था। वह सतीश से ड्रग्स लेकर उसे लंदन में अमरजीत को बेचता था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.