Tuesday, May 24, 2022
-->
mohali bomb blast case: two youths working in garment factory in noida picked up

मोहाली बम ब्लास्ट कांड: नोएडा में गारमेंट फैक्टरी में काम कर रहे दो युवक उठाए

  • Updated on 5/14/2022

 

नई दिल्ली, टीम डिजीटल/ दिनेश शर्मा/ पंजाब पुलिस के मोहाली स्थित इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर पर 9 मई को हुए आतंकी हमले के तार नोएडा से भी जुड़ते दिखाई दे रहे है। शुक्रवार देर शाम पंजाब पुलिस की स्पेशल टीम ने नोएडा में दबिश दी। सेक्टर-10 के सी ब्लॉक स्थित एक गारमेंट फैक्टरी में काम कर रहे दो युवकों मोहम्मद नसीम आलम और मोहम्मद शरफराज को पूछताछ के लिए हिरासत में ले गई। दोनों ही युवक बिहार के अरनिया के रहने वाले है। जो कि नोएडा की सेक्टर-16 की जेजे कालोनी में रह रहे थे। इसी वर्ष तीन अप्रैल को शहनवाज और दो मई को नसीम ने नौकरी शुरू की थी। जिन्हें फैक्टरी में काम करने वाले एक अन्य युवक ने रखवाया था।  दोनों को हिरासत में लिए जाने की जानकारी पंजाब पुलिस ने नोएडा पुलिस के अधिकारियों को दी और उनके सहयोग से ही वह उन्हें नोएडा से पंजाब ले गई। पंजाब पुलिस के मुताबिक यह दोनों युवक इंटेलिजेंस हेड क्वार्टर पर बम ब्लास्ट करने वाले फरार चल रहे युवकों के सम्पर्क में थे। जिसकी जानकारी कॉल डिटेल के आधार पर मिली थी। जिसके बाद आधार पर उन्हें पूछताछ के लिए ले जाया गया है। वहीं नोएडा से दोनों युवकों को उठाए जाने के बाद यूपी पुलिस में भी हडक़ंप मच गया। नोएडा पुलिस के अधिकारियों ने इसकी जानकारी शासन व लखनऊ में बैठे यूपी पुलिस के बड़े अधिकारियों को दी है। वहीं यूुपी एटीएस के एडीजी नवीन अरोरा ने बताया कि अगर पंजाब पुलिस उनसे जानकारी साझा करेगी तो यूपी एटीएस इस प्रकरण में उनकी छानबीन में पूरी तरह सहयोग करेगी। नोएडा में इससे पहले भी आईएसआई के एजेंटों की धर पकड़ हो चुकी है। जो कि नोएडा के मिश्रित आबादी वाले इलाकों में किराएदार के रूप में रह रहे थे।  


पंजाब पुलिस की हिरासत में लिए जाने के बाद नोएडा पुलिस सतर्क
दोनों ही युवक ब्लास्ट करने वाले युवकों के रिश्तेदार बताएं जा रहे है। ऐसे में पुलिस को आशंका है कि वह पाकिस्तान खुफिया एजेंसी आईएसआई के स्लीपर एजेंट हो सकते है। जो कि नोएडा में सेक्टर-10 में फैक्टरी में काम करने के साथ साथ सेक्टर-16 जेजे कालोनी में रह रहे है। दोनों को पंजाब पुलिस द्वारा उठाए जाने की जानकारी पाकर पडोसी भी हैरान है और इस प्रकरण पर कुछ भी बोलने से कतरा रहे है। बिहार के अररिया के कई मुस्लिम युवकों को पाकिस्तानी कनेक्शन कई बार उजागर हुआ है। जिनमें से अधिकांश मूल रूप से बंज्लादेशी है। जो स्लीपर सेल बनाने की मुहिम में भी कई बार सुखर््िायों में आ चुके है। ऐसे में आशंका है कि यह युवक भी कहीं न कहीं उन दोनों हमलावरों की नेटवर्क में आ चुके हो और नोएडा में बेस तैयार करने की तैयारी में रहे हो।  सेक्टर-10 से पकड़े जाने के बाद अब नोएडा की एलआईयू भी उनके बारे में जानकारी जुटा रही है।  नोएडा के एडिशनल डीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि शनिवार को पंजाब पुलिस नोएडा पहुंची। इसकी जानकारी पंजाब पुलिस की स्पेशल टीम ने उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टीम को दी गई थी। पंजाब पुलिस ने नोएडा के सेक्टर-10 से दो आरोपियों को हिरासत में लिया है और पूछताछ के लिए अपने राज्य में लेकर गई है।  
बम ब्लास्ट वाले दिन दोनों की थे फैक्टरी में
सी ब्लॉक स्थित कपड़ा फैक्टरी में कुछ आठ लोग काम करते है। फैक्टरी की मालकिन के मुताबिक वह वर्क आर्डर पर काम करती है। मोहम्मद नसीम और शरफराज दोनों की एक पुराने वर्कर के जरिए नौकरी पर रखे गए थे। दोनों कपड़ों की कटिंग का काम करते थे। जिस दिन मोहाली में बम ब्लास्ट हुआ दोनों की फैक्टरी में ड्यूटी पर थे। शरफराज ने केवल एक दिन की छुट्टी ली है अब तक और नफीस ने अब तक कोई छुट्टी नहीं ली है। ऐसे में दोनों को पंजाब पुलिस की हिरासत में खबर सुन कर फैक्टरी मालकिन भी हैरान परेशान है। 

आईएसआई और बब्बर खालसा ने मिल कर कराया था ब्लास्ट
मालूम हो कि पंजाब पुलिस के मोहाली स्थित इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर पर आतंकी हमले के पीछे पाकिस्तानी हाथ होने की पुष्टि हो गई है। पंजाब पुलिस के डीजीपी वीके भावरा ने शुक्रवार को कहा कि यह हमला पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के कहने पर किया गया। इसे खालिस्तानी आतंकी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल  ने कराया और इसका मास्टरमाइंड कनाडा में बैठा गैंगस्टर लखबीर सिंह लाडा है। लाडा पाकिस्तान से ऑपरेट करने वाले गैंगस्टर हरविंदर रिंदा का करीबी है। भावरा ने कहा, जिस आरपीजी के जरिए हमले के लिए रॉकेट दागा गया, वह भी पाकिस्तान से ही आया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.