Thursday, Aug 11, 2022
-->
money-laundering-case-satyendar-jain-s-judicial-custody-extended-by-14-days

मनी लॉन्ड्रिंग मामला: सत्येंद्र जैन की न्यायिक हिरासत 14 दिन बढ़ी

  • Updated on 6/27/2022

मनी लॉन्ड्रिंग मामला: सत्येंद्र जैन की न्यायिक हिरासत 14 दिन बढ़ी
मंगलवार को अदालत करेगी जैन की जमानत याचिका पर सुनवाई

 

नई दिल्ली, 27 जून (नवोदय टाइम्स): राउज एवेन्यू कोर्ट स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने कथित धनशोधन मामले में आप नेता और दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। सत्येंद्र जैन13 जून तक ईडी की हिरासत में थे। सत्येंद्र जैन ने राउज एवेन्यू कोर्ट में जमानत अर्जी भी दायर की है, जिस पर मंगलवार 28 जून को सुबह 11 बजे सुनवाई होगी

अदालत ने कथित धनशोधन मामले में आप नेता और दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार को दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की न्यायिक हिरासत की अवधि 14 दिन के लिए और बढ़ा दी है। अदालत ने कहा कि अस्पताल में भर्ती होने के कारण हिरासत में होने के बावजूद उन्हें न तो पेश किया गया और न ही वो एक बार भी अदालत पहुंचे।

मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में ईडी ने जैन को 30 मई को गिरफ्तार किया था। इससे पहले अप्रैल महीने में प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम अधिनियम, 2002 के तहत जैन के परिवार और कंपनियों की 4.81 करोड़ रुपये की अचल संपत्तियां कुर्क की थी। इसमें अकिंचन डेवेलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, इंडो मेटल इम्पेक्स प्राइवेट लिमिटेड और अन्य कंपनियों की संपत्तियां शामिल थीं।  

जैन पर आरोप हैं कि उन्होंने दिल्ली में कई शेल कंपनियों को लॉन्च किया या खरीदा था। उन्होंने कोलकाता के तीन हवाला ऑपरेटरों की 54 शेल कंपनियों के माध्यम से 16.39 करोड़ रुपये के काले धन को भी सफेद किया था। जैन के पास प्रयास, इंडो और अकिंचन नाम की कंपनियों में बड़ी संख्या में शेयर थे।

रिपोट्र्स के अनुसार 2015 में केजरीवाल सरकार में मंत्री बनने के बाद जैन के सभी शेयर उनकी पत्नी के नाम कर दिए गए थे। मामला सामने आने पर गिरफ्तारी के बाद जब ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग के कागजात दिखाकर जैन से सवाल पूछे तो उन्होंने कोरोना के कारण याददाश्त चले जाने का दावा कर दिया। ईडी ने जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान ही अदालत को यह बात बताई थी।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.