Friday, May 07, 2021
-->
more-than-90-percent-of-women-are-pocket-mar

दिल्ली मेट्रो में सफर करने वाले रखें अपनी जेब का ख्याल, 90 फीसदी से ज्यादा महिला हैं पॉकेटमार

  • Updated on 1/5/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली की मेट्रो में अगर आप अकसर सफर करते हैं तो जनाब अपनी पॉकेट का भी ख्याल रखा करें। अकसर दिल्ली मेट्रो में चोरी और पॉकेटमारी की कई घटनाएं सामने आती रहती हैं। इससे जुड़ा एक बेहद ही चौका देने वाला आंकड़ा इन दिनों सामने आया है। इन आंकड़ों में ये खुलासा हुआ है कि सेंट्रल इंडस्ट्रियल फोर्स ने साल 2017 में जितने भी पॉकेटमारों को पकड़ा उसमें से 90 फीसदी से ज्यादा महिलाएं थीं। मीडिया रिर्पोट के मुताबिक सीआईएसएफ  ने  1,311 पॉकेटमारों को पकड़ा जिसमें 1,222 महिलाएं शामिल थीं। 

गुडगांव की महिलाएं अन्य जिलों के मुकाबले ज्यादा असुरक्षित, हिंसा वाले जिलों में पंचकूला भी शामिल

इन आकड़ो को लेकर सीआईएसएफ के अधिकारियों का कहना है कि इन्हें पकड़ने के लिए एंटी थेफ्ट स्क्वॉड बनाया गया है। हालांकि उन्होंने अपनी बात में इस चीज का भी जिक्र किया है कि कम गिरफ्तारियों के चलचे इस तरह के मामलों में कोई कमी नहीं आ पाई है।

इस तरह दिया जाता है वारदात को अंजाम

अधिकारियों के अनुसार ये महिलाएं ग्रुप में अपने काम को अंजाम देती हैं। लोगों को बेवकूफ बनाकर ये अक्सर गोद में बच्चे को लिए रहती हैं। इस ग्रुप में एक का काम होता है कि वो पॉकेट मारे और वहीं दूसरी तरफ बाकी महिलाएं उसे घेर खड़े हो जाए ताकि दूसरे मुसाफिर उनकी  इन हरकतों को ना पकड़ पाएं। साथ ही पॉकेटमार ज्यादातर उन्हीं मेट्रो स्टेशनों को चुनती हैं जहां इंटरचेंज किया जाता हो जैसे कि राजीव चौक, सेंट्रल सेक्रेटेरिएट, नई दिल्ली, चावड़ी बाजार आदि जैसे मेट्रो स्टेशन।

कई बार तो  यह वाक्य हो जाता है कि पॉकेटमारों को पकड़ कर पुलिस को दे दिया जाता है लेकिन लोग उनके खिलाफ मामला दर्ज नहीं करवाते जिसके चलते वह छोड़ दिए जाते हैं। अगली बार फिर से वह इस वारदात को अंजाम देने में कामियाब हो जाते हैं। अधिकारियों ने बताया कि वो पॉकेटमारों के एक ही ग्रुप को कई बार दबोच चुके हैं। 

एमबीबीएस में दाखिला दिलवाने के नाम पर ठगे 35 लाख रुपए

सीआईएसएफ के पास नहीं है कोई अधिकारी

लेकिन सीआईएसएफ के पास केस दायर करने का कोई अधिकार नहीं है, जिसके चलते वह पॉकेटमारों को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर देते हैं। बता दें कि दिल्ली मेट्रो और उसके कॉमप्लेक्स की सिक्योरिटी की जिम्मेदारी सीआईएसएफ के पास है। जिसको लेकर सीआईएसएफ की स्पेशल टीम मेट्रो में गश्त भी लगाया करती है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.