Wednesday, Aug 10, 2022
-->
narayan-sai-wife-janki-can-filed-divorce-case-in-court

SC से झटके के बाद अब पत्नी की परीक्षा से गुजरेंगे नारायण साईं, होगा तलाक!

  • Updated on 5/2/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आसाराम (Asharam) के बेटे नारायण साईं (Narayan Sai) को बलात्कार के आरोप में उम्रकैद मिलने के बाद अब उसकी पत्नी जानकी हरपलानी (Janki Harplani) नारायण साईं से तलाक लेने पर विचार कर रही हैं। गौरतलब है अभी कुछ समय पहली ही सूरत सेशन कोर्ट (Surat Session Court) ने दो बहनों के यौन शोषण के मामले में नारायण साईं को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

10 साल की मशक्कत के बाद Global Terrorist घोषित हुआ मसूद अजहर, जानिए क्या पड़ेगा असर

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक नारायण साईं की पत्नी जानकी हरपलानी ने कोर्ट के फैसले को स्वीकार करते हुए कहा, ‘नारायण साईं को उम्रकैद की सजा सुनाए जाने के फैसले से उन सभी लोगों को बहुत बड़ी सीख मिलेगी जो धर्म के नाम पर महिलाओं के साथ कुकृत्य करते हैं।’

Navodayatimes

वहीं जानकी ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, ‘मैं कुछ साल पहले यह कहकर अपने पति से अलग हुई थी कि मैं उनके गलत कामों में उनका साथ नहीं दे सकती। अब मैं विचार कर रही हूं कि तलाक का मुकदमा दायर करूं, ताकि मैं अपने नए जीवन की शुरुआत कर सकूं।’

शादी कर महिला को छोड़ा, फिर नेपाल में किया ये शर्मनाक काम, DCW ने रोका

जानकी ने अपने सपने के बारे में बताते हुए कहा, ‘मैं सीए बनना चाहती हूं। मैं नहीं चाहती कि मेरे भावी जीवन में मेरा नाम नारायण साईं या उनके परिवार से किसी भी तरह से जोड़ा जाए।’ हालांकि जानकी ने ये भी बताया कि नारायण साईं के ऊपर तलाक का मुकदमा डालने से पहले वो अपने भरण-पोषण, घरेलू हिंसा और प्रताड़ना के मामलों में फैसले का इंतजार कर रही हैं।

उन्होंने बताया कि 2018 में कुटुम्ब न्यायालय (Kutumb Court) ने नारायण साईं को आदेश दिया था कि वह उन्हें हर महीने 50,000 रुपये भरण-पोषण खर्च दें, लेकिन अदालत के इस आदेश के बावजूद मुझे जानकी को नारायण साईं ने कोई भरण-पोषण की राशि नहीं दी गई। हालांकि जानकी ने कोर्ट पर अपना पूरा विश्वास जताते हुए कहा कि मुझे इंसाफ जरूर मिलेगा।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.