Monday, Jan 24, 2022
-->
natralal sumit of ncr shocked by noida police!

नोएडा पुलिस से सहमा एनसीआर का नटरलाल सुमित !

  • Updated on 11/14/2021

 

नई दिल्ली, टीम डिजीटल /दिनेश शर्मा: दिल्ली-एनसीआर में अलग अलग नामों से कंपनी खोल कर ठगी करने में माहिर मोहित गोयल का खास साथी सुमित यादव अपने साथियों की गिरफ्तारी और उसके बाद नोएडा पुलिस की तरफ से हुई कानूनी कार्रवाई से सहमा दिखाई दे रहा है। पिछले वर्ष दो सौ करोड़ रुपये के ड्राई फू्रट के घोटाले में मोहित गोयल के साथ आरोपी सुमित यादव नोएडा पुलिस के राडार पर था। उसकी तलाश में नोएडा पुलिस ने दिल्ली एनसीआर के अलावा दक्षिण भारत के कई शहरों व गुजरात व राजस्थान तक में डेरा डाला था। नोएडा पुलिस की निगाह से बच रहा सुमित पिछले माह दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के हाथ दिल्ली एयरपोर्ट के बाहर लग गया। उस पर मोहित गोयल के साथ मिल कर कारोबारी को धमकी देने और रेप केस में फंसाने की साजिश रचने का आरोप है। वह इन दिनों मोहित गोयल व उसके सिक्योरिटी इंचार्ज सैंकी के साथ तिहाड़ जेल में बंद है। कारोबारी जिससे धमकी दी थी वह मोहित गोयल का साढ़ू है। जिसके साथ मोहित ने करोड़ो की ठगी कर रखी है और पैसा वापस मांगने पर उसे रेप केस में फंसाने की साजिश रच दी थी। गिरफ्तारी की जानकारी नोएडा पुलिस को हुई तो नोएडा पुलिस ने दिल्ली पुलिस से सम्पर्क कर उसके खिलाफ बी वारंट अदालत में दाखिल कर दिया ताकि सुमित यादव को गिरफ्तार कर नोएडा लाया जा सके।

नोएडा पुलिस के बी वारंट दाखिल होने की भनक लगते ही सुमित यादव ने दिल्ली एयरपोर्ट के बाहर हुई गिरफ्तारी के मामले में अपनी जमानत कराने की इच्छा पर फिलहाल रोक लगा दी है। जबकि उस मामले में उसे आसानी से जमानत मिल सकती है लेकिन उसे पता है कि जमानत पर रिहा होते ही तिहाड़ जेल से बाहर आने के बजाए उसे सीधा नोएडा पुलिस के हवाले कर दिया जायेगा। गौतमबुद्व नगर पुलिस कमिश्नरेट के अपर पुलिस आयुक्त (कानून एवं व्यवस्था) लव कुमार ने बताया कि नोएडा पुलिस के हाथ लगते ही उसके काले कारनामे और ठगी के धंधे के वो खुलासे भी हो सकते है जिसे उसने अब तक राज बना कर रखा है। वहीं नोएडा पुलिस से लगातार अदालत में आंख मिचौली कर रहे सुमित यादव ने पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की थी। जिसमें उसने नोएडा पुलिस के बड़े अफसरों पर ड्राई फ्रूट मामले में उसे फंसाने का आरोप लगाते हुए उसके खिलाफ दर्ज हुए मामले को खत्म करने की गुहार लगाई थी लेकिन शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में हुई उसकी याचिका पर सुनवाई के दौरान अदालत ने याचिका को ही खारिज कर दिया। ऐसे में अब नोएडा पुलिस को उम्मीद जगी है कि जल्द ही वह नोएडा पुलिस की गिरफ्त में होगा।

क्या है ड्राई फ्रूट घोटाला
वर्ष 2017 में फ्रीडम 251 नाम से एक मोबाइल फोन लांच करने की घोषणा मोहित गोयल नाम के युवक ने की थी। मोबाइल की कीमत 251 रुपये रखी गई थी। इसके अलावा मोबाइल बांटने की फै्रंचाइची देने के नाम पर मोहित गोयल ने एक दर्जन से अधिक लोगों से एक करोड़ रुपये प्रति व्यक्ति तक ले लिया था लेकिन न तो मोबाइल फोन किस को दिया और न ही फ्रै ंचाइजी दी गई। मोहित गोयल के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ और वह जेल गया। जेल से छूटने के बाद उसने ड्राई फ्रूट के कारोबारियों को निशाना बनाया और दुबई ड्राई फू्रट कंपनी नोएडा के सेक्टर-62 में खोल कर दिल्ली-एनसीआर के कारोबारियों से माल का 40 प्रतिशत नकद या चेक देकर माल उठाया और बाकी का 60 प्रतिशत हड़प कर रातो रात कंपनी बंद कर फरार हो गया। यह रकम लगभग दो सौ करोड़ के उपर की थी। पिछले वर्ष रोहित मोहन नाम के युवक ने थाना सेक्टर-58 में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जिसमें मोहित गोयल, सुमित यादव ओम प्रकाश जांगिड़, आकाशदीप शर्मा उर्फ हैरी, पंकज प्रकाश, अमरजीत, सुमिता नेगी उर्फ जैनिया तथा सतन यादव को नामजद किया था। इन ठगों के खिलाफ गुडग़ांव, मुरादाबाद देश के विभिन्न थानों में 24 से ज्यादा धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं। इनकी गिरफ्तारी थाना सेक्टर-58 पुलिस ने जनवरी 2021 में की थी। गिरफ्तारी के दौरान पुलिस ने मोहित के पास से दो लग्जरी कारें और अन्य सामान बरामद किया था। इसके बाद उन पर गैंगस्टर की भी कार्रवाई की गई। इस मामले में सुमित यादव फरार चल रहा था। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.