Sunday, Dec 04, 2022
-->
nhrc-notice-to-yogi-adityanath-govt-on-rape-victim-father-death-in-judicial-custody

रेप पीड़िता के पिता की मौत के मामले में योगी सरकार को NHRC का नोटिस

  • Updated on 4/10/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने उन्नाव में दुष्कर्म पीड़िता के पिता की न्यायिक हिरासत में मौत के मामले और इससे जुड़े आरोपों को लेकर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को नोटिस भेजा है। इसके साथ ही समाजवादी पार्टी ने इस मसले पर सड़कों पर अपना विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया है। 

राबड़ी देवी के घर में सीबीआई ने ली तलाशी, तेजस्वी यादव से हुई पूछताछ

मानवाधिकार आयोग ने यह नोटिस मीडिया खबरों को आधार बनाकर जारी किया है। बता दें कि दुष्कर्म पीड़िता ने हाल ही में सीएम योगी के आवास के नजदीक आत्मदाह का प्रयास किया था। उसने आरोप भाजपा विधायक कुलदीप सिंह संगेर और उनके साथियों पर बलात्कार और पिता को मरवाने का आरोप लगाया है। 

जेटली का एम्स में डायलिसिस, जल्द हो सकता है किडनी ट्रांसप्लांट

मानवाधिकार आयोग का मानना है कि अगर ये सभी आरोप सही हैं तो यह बहुत की संगीन हैं और पीड़िता के परिजनों के मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन करते हैं। यूपी के मुख्य सचिव और यूपी के पुलिस महानिदेशक को जारी इस नोटिस में इस मामले की व्यापक रिपोर्ट तलब की गई है। 

एम्स के भ्रष्टाचार मामले अवैध तरीके बंद करने के दावे पर कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब

इसके साथ ही आयोग ने डीजीपी से फटकार भी लगाई है कि आखिर 24 घंटे में न्यायिक हिरासत में हुई इस मौत के बारे में आयोग को क्यों सूचित नहीं किया है। आयोग ने साफ कहा है कि पीड़िता की शिकायत दर्ज नहीं करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई हो। 

मुंबई एयरपोर्ट पर दो दिनों के लिए 6-6 घंटे प्रभावित रहेंगी फ्लाइट्स

यूपी सरकार को आयोग ने जवाब के लिए चार हफ्ते का समय दिया है। इसके साथ ही सरकार से मारे गए पीड़िता के पिता की मेडिकल और स्क्रीनिंग रिपोर्ट भी पेश करने का आदेश दिया गया है। उधर यूपी में विपक्ष ने योगी सरकार के खिलाफ अपना अभियान तेज कर दिया है। सपा भाजपा विधायक संगेर की फौरन गिरफ्तारी की मांग कर रही है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.