Friday, Jan 18, 2019

18 महीने बाद खुला कंस मामा का भेद, गर्लफ्रेंड से नजदीकी बढ़ाने पर भांजे को उतारा मौत के घाट

  • Updated on 1/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कलयुगी मामा ने अपने सगे भांजे की हत्या कर शव को छत पर पौधे लगाने की क्यारी में दफना दिया। आरोपी ने शव के ऊपर पौधा भी लगा दिया।

वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी मामा ने अपने भांजे की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई व उसी मकान में रहता रहा, जिस मकान की छत पर उसने मिट्टी में शव दफन करने के बाद उस पर पौधा लगा दिया था। 

राजधानी में एक बार फिर घटा टैटू गर्ल हत्याकांड, चेहरे पर चाकुओं से वार कर सूटकेस में रखा शव

मिट्टी के नीचे से मिला नर कंकाल
तीन महीने पूर्व आरोपी मामा के मकान खाली करके चले जाने के बाद जब मकान मालिक ने सूख चुके पौधों व मिट्टी को छत से हटाया तो उसके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई।

मिट्टी के नीचे एक नर कंकाल था। जिसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस के अनुसार 9 अक्तूबर 2018 को कंकाल मिलने की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी। 

फिर शर्मसार हुए रिश्ते, पिता ने ही बनाया 8 साल की मासूम को हवस का शिकार

डीएनए जांच के बाद मामा पर घूमी संदेह की सुई
छानबीन में मृतक की पहचान 27 साल के जय प्रकाश महाराणा के रूप में हुई थी, जो अपने मामा विजयन के साथ किराए पर रहता था। पुलिस ने परिवार से संपर्क करके डीएनए जांच कराई और मकान मालिक से पूछताछ हुई तो पता चला कि उसने इस मकान में किराए का कमरा लिया था और तुलसी की पूजा करने के लिए मकान मालिक से कहकर चौथी मंजिल पर बॉलकनी में मिट्टी डाली थी।

पता चला कि जय प्रकाश के सगे मामा ने 12 फरवरी को जयप्रकाश की गुमशुदगी की जानकारी दी थी, कि वह कहीं शादी में गया था, लेकिन वापस नहीं आया। जानकारी देने के बाद विजयन ने गुमशुदगी को लेकर कोई पूछताछ नहीं की। 

युवक का बेरहमी से कत्ल कर फरार हुए बदमाश, जांच में जुटी पुलिस

दिल्ली से हैदराबाद चला गया
आरोपी मामा विजयन को शव बरामद होने व पुलिस छानबीन की जानकारी मिली तो वह दिल्ली छोड़ कर हैदराबाद फरार हो गया। 3 महीने की गहन छानबीन, टेक्निकल सर्विलांस, 400 से ज्यादा लोगों से पूछताछ और 5 राज्यों में दर्जन भर रेड इंस्पेक्टर राज कुमार की टीम द्वारा की गईं और आखिरकार हैदराबाद से आरोपी विजयन महाराणा को दबोच लिया गया।

गर्लफ्रेंड से नजदीकी बढ़ाने पर की थी भांजे की हत्या
उड़ीसा का रहने वाला वाला विजयन भांजे जय प्रकाश महाराणा के साथ द्वारका जिला के डाबरी थाना इलाके में किराए पर रहता था और प्राइवेट कंपनी में जॉब करता था। पूछताछ में उसने खुलासा किया कि प्रकाश की नजदीकी उसकी गर्लफ्रेंड से बढने लगी थी।

उसे रास्ते से हटाने के लिए रात में पंखे की मोटर से वार करके हत्या कर शव को ठिकाने लगाने के लिए बॉलकनी में मिट्टी डालकर पूजा के लिए तुलसी का पौधा लगाने के बहाने भांजे की लाश को उसमें दफन कर दिया। और उसी मकान में अकेले रहता रहा।

जानकार ने ही बनाया 9वीं कक्षा की छात्रा को हवस का शिकार, 2 दिन तक सड़को पर भटकती रही पीड़िता

आरोपी को दबोचने के लिए एएटीएस के इंस्पेक्टर राज कुमार के नेतृत्व में एक टीम बनाई गई। जिसमें सब इंस्पेक्टर धर्मेंद्र, संजय, सहायक सब इंस्पेक्टर रणधीर, संजय, कांस्टेबल जगत को शामिल किया गया। जांच में संदिग्ध आरोपी मृतक के मामा विजयन का कुछ पता नहीं चला, उसके सारे पुराने नंबर बंद मिले, घरवालों से वह काफी अरसे से किसी के संपर्क में नहीं था।

पुलिस की कई टीमें जानकारी मिलते ही दिल्ली में कई जगहों के अलावा, हरियाणा के सोनीपत, पानीपत, पंजाब के अम्बाला, उड़ीसा और विशाखापपत्तनम तक रेड की, उसी रेड में आरोपी के एक दो पुराने दोस्त के बारे में जानकारी मिली।

फिर उसी जानकारी पर सहायक सब इंस्पेक्टर मनोज और कांस्टेबल अर्जुन की टीम विशाखापत्तनम रवाना हुई, वहां पुलिस टीम जांच करते हुए आरोपी के एक सबसे पुराने दोस्त तक पहुंच गई। बाद में पुलिस ने हैदराबाद पहुंचकर विजयन की गर्ल फ्रेंड की मदद से आरोपी को दबोच लिया। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.