Thursday, Apr 09, 2020
nirbhaya rape case victim vinay advocate go to election commission

निर्भया केस: कोर्ट ने तिहाड़ जेल को दोषी विनय का इलाज कराने का दिया निर्देश

  • Updated on 2/20/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। निर्भया मामले को लेकर अदालत ने चारों आरोपी को फांसी की सजा सुना चुकी है। फांसी से बचने के लिए दोषी विनय (Vinay) के वकील ने पटियाला हाउस में एक याचिका डाली है जिसमें उसकी मानसिक स्थिति को खराब  बताते हुए फांसी टालने की अपील की जिसपर संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने तिहाड़ जेल प्रशासन को विनय का इलाज कराने का निर्देश दिया है।

इसके पहले फांसी से बचने के लिए विनय के वकील ने चुनाव आयोग में अर्जी दाखिल की जिसके अनुसार कहा गया है कि दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने 29 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास दोषी विनय की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश की थी तो वो ना तो मंत्री थे और ना ही विधायक।

दोषी विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने कहा कि सत्येंद्र जैन ने 30 जनवरी को अपना साइन व्हाट्स ऐप के जरिए भेजा। अर्जी में कहा गया है कि ऐसे में दया याचिका खारिज करना गैरकानूनी और असंवैधानिक है, क्योंकि उस समय दिल्ली में चुनाव के लिए आदर्श चुनाव संहिता चल रही थी। इस अर्जी के अनुसार चुनाव आयोग से पूरे मामले में संज्ञान लेने की मांग रखी है।

CAA Protest: जामिया हिंसा के 28 वीडियो आए सामने, पुलिस पर पत्थर चलाते दिखे छात्र!

विनय ने जेल  में पटका सिर
आरोपी विनय ने तिहार जेल में दीवार पर अपना सिर मारकर खुद को घायल करने की कोशिश करने की। दिल्ली पुलिस के मुताबिक दोषी के सिर पर मामूली-सी चोट आई है। विनय अपना सिर जब दिवार पर पटक रहा था, तभी अचानक से सुरक्षाकर्मी की नजर उस पर पड़ी जिसके बाद उस पर काबू पा लिया गया है। 

दिल्ली: हैप्पीनेस क्लास में पहुंचेंगी मेलानिया ट्रंप, सिसोदिया और केजरीवाल भी होंगे मौजूद

फांसी देने की तैयारी शुरू
निर्भया के गुनहगारों को फांसी देने की तैयारी शुरू कर दी गई है। जेल में डमी से फांसी का अभ्यास करने से पहले चारों दोषियों के गले का नाप लिया गया। साइज के हिसाब से जेल प्रशासन फांसी का फंदा तैयार करेगा। इस दौरान चारों दोषियों की लंबाई मापी गई और वजन भी लिया गया। पूरी प्रक्रिया के दौरान चारों गुनहगार फूट-फूट कर रोते रहे। चारों में से तीन हिंसक होते जा रहे हैं, वहीं चौथा बिल्कुल शांत बैठा रहता है। ऐसे में दोषी मुकेश सिंह को उसकी मां से मिलने की इजाजत दी गई। सजा के ऐलान के बाद से दोषी मुकेश सिंह थोड़ा अजीब व्यवहार कर रहा था।

मध्यस्थता पर बोले प्रदर्शनकारी- शाहीन बाग से देशभर के प्रदर्शन खत्म करने की साजिश

दया याचिका का दिलाया भरोसा
सूत्रों के मुताबिक, जिस वक्त गुनहगारों की माप ली जा रही थी, उस वक्त वह फफक-फफक कर रो पड़े थे। उन्हें अपने सामने मौत नजर आ रही थी। मौके पर मौजूद जेल कर्मियों ने उन्हें किसी तरह शांत कराया। मां से मुलाकात के वक्त मुकेश भावुक हो गया और कई बार रोया भी। इसके बाद मां ने उसे क्यूरेटिव (Curative) और दया याचिका के विकल्प का भरोसा दिया, तब जाकर वह शांत हुआ। 

CAA Protest: जामिया लाइब्रेरी हिंसा मामले में 10 छात्रों की हुई पहचान, नोटिस जारी

पहले एक तख्त थी फांसी के लिये
मालूम हो कि पहले फांसी के लिये 1 ही तख्त हुआ करता था, जिसे बढ़ाकर अब 4 कर दिया गया है। जेसीबी मशीन की सहायता से इस काम को जल्द पूरा किया गया है। इस मशीन की सहायता से तख्त और सुरंग दोनों बनाए गए है। तख्तों के नीचे सुरंग बनाई जाती है। सुरंग से ही मृत शरीर को बाहर निकाला जाता है। इससे पहले 16 दिसंबर 2012 को चलती बस में निर्भया के साथ गैंगरेप हुआ था। जिसमें अब तक न्यायिक प्रक्रिया के अंतिम चरण तक पहुंचने के बाद 4 दोषियों पर फांसी की सजा संभव नजर आ रही है। 

comments

.
.
.
.
.