Sunday, Dec 04, 2022
-->
now-two-planes-of-goair-have-a-problem-after-flight

अब गोएयर के दो विमानों में उड़ान के बाद आई खराबी

  • Updated on 7/19/2022

खराबी का पता लगने के बाद डायवर्ट कर कराई गई लैंडिंग
- एक विमान मुंबई से लेह व दूसरे विमान ने श्रीनगर से दिल्ली के लिए भरी थी उड़ान
 
नई दिल्ली/टीम डिजिटल।


विमानों के उड़ान भरने के बाद तकनीकी खराबी का पता लगने और उनकी इमरजेंसी लैंडिंग कराए जाने का सिलसिला जारी है। ऐसी ही दो घटनाएं मंगलवार हो हुई है। दोनों विमान गो एयरलाइन के हैं। डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) के अनुसार इनमें से एक विमान ने मुंबई से लेह के लिए उड़ान भरी थी। दूसरे विमान ने श्रीनगर से दिल्ली के लिए। उड़ान के बाद इंजन में आई तकनीकी खराबी का पता लगने के बाद लेह जा रहे विमान को डायवर्ट कर दिल्ली में लैंडिंग कराई गई। वहीं श्रीनगर जा रहे विमान को वापस श्रीनगर भेज दिया गया। वैसे इस मामले में एयरलाइन की ओर से किसी भी प्रकार की आधिकारिक जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई है।

डीजीसीए की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार गो एयर के एक ए 320 एयरक्राफ्ट वीटी-डब्ल्यूजीए जिसकी फ्लाइट संख्या जी8-386 है ने तडक़े सुबह 3.01 बजे मुंबई से लेह के लिए उड़ान भरी थी। उड़ान भरने के कुछ समय बाद ही पायलट को विमान के दूसरे इंजन के इंजन इंटरफेस यूनिट में तकनीकी खराबी की जानकारी मिली। जानकारी मिलते ही पायलट ने इसकी सूचना नजदीकी एटीसी को दी। इसके बाद विमान को दिल्ली एयरपोर्ट पर डायवर्ट कर उसकी सुरक्षित लैंडिंग कराई गई। वहीं एक अन्य गोयर के ही एक ए 320 एयरक्राफ्ट वीटी-डब्ल्यूजेजी जिसकी फ्लाइट संख्या  जी8-6202 ने सुबह 11.30 में श्रीनगर एयरपोर्ट से उड़ान भरी थी। पर इस विमान में भी उड़ान के कुछ समय बाद पायलट को तकनीकी खराबी की जानकारी मिली। इसके एटीसी से संपर्क किया गया। सुरक्षा को देखते हुए विमान को वापस श्रीनगर लौटा दिया गया। जहां विमान की सुरक्षित लैंडिंग कराई गई। विमान की जांच व सिक्योरिटी क्लीयरेंस के बाद दोपहर करीब 2.47 बजे वापस यात्रियों को लेकर दिल्ली के लिए उड़ान भरी।

ढाई माह में तकनीकी खराबी आने के बाद 16 उड़ाने प्रभावित

विमानों में तकनीकी खराबी आने का सिलसिला जारी है। आंकड़ों के अनुसार पिछले करीब ढाई महीने ही तकनीकी गड़बड़ी के कारण 16 फ्लाइट्स प्रभावित हुईं। इनमें से कुछ विमानों की इमरजेंसी लैंडिंग करानी पड़ी तो कई विमान लैंडिंग के बाद उड़ान ही नहीं भर सके। वहीं 15 दिनों में यह दूसरी घटना है। इससे पहले 5 जुलाई को भी दिल्ली से पटना जा रही गो एयर के विमान में तकनीकी गड़बड़ी मिलने पर उसे दोबारा दिल्ली लाकर लैंड करवाया गया था।
सबसे ज्यादा मामले स्पाइसजेट एयरलाइंस के सामने आए हैं। एक महीने के अंदर कम से कम 8 से ज्यादा इस तरह की घटनाएं सामने आ चुकी हैं। इधर विमानों में आए दिन आ रही खराबी और यात्रियों की सुरक्षा को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में स्पाइसजेट एयरलाइन के खिलाफ एक याचिका भी दायर हुई थी। पर कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.