Sunday, Mar 24, 2019

चोरी की बाइकों की OLX पर हो रही धड़ल्ले से बिक्री, खरीद-फरोख्त से रहे सावधान!

  • Updated on 3/14/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ऑनलाइन वाहनों की खरीद फरोख्त कर रहे हैं तो जरा सावधान हो जाएं! हो सकता है कि आप चोरी का वाहन खरीद रहे हों,जिसके कागजात भी फर्जी हों। नरेला औद्योगिक क्षेत्र पुलिस ने दो ऐसे शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है, जो इलाके में रेकी कर बाइकों को चोरी करने के बाद ओलएक्स पर ऑनलाइन बेच दिया करते थे।

पकड़े गए आरोपियों में एक वकालत की जबकि दूसरा कॉलेज से पढ़ाई कर रहा है। आरोपियों की पहचान अंशुल राघव और अंशुल कुमार पाल के रूप में हुई है।

रिलायंस Jio के नाम पर हजारों लोगों से की ठगी, सरगना बिहार से गिरफ्तार

आरोपियों के कब्जे से आधा दर्जन बाइक जब्त कर आधा दर्जन वारदातों का खुलासा किया है। पुलिस आरोपी के एक अन्य साथी आकाश के ठिकानों पर छापेमारी कर पकडऩे की कोशिश कर रही है।

बाहरी उत्तरी जिला पुलिस उपायुक्त गौरव शर्मा ने बताया कि नरेला नरेला औद्योगिक क्षेत्र पुलिस पिछले काफी समय से वाहन चोरों और लुटेरों को पकडऩे के लिए  जगह-जगह पर बेरिकेड्स लगाकर स्प्राइज चेकिंग कर रही थी।

संदिग्ध हालात में पती-पत्नी ने की आतमहत्या, SDM को सौंपी गई जांच

इस बीच उनको एक सूचना मिली कि वाहन चोर बाइक को बेचने के लिए जीटी करनाल रोड की तरफ से आएंगे। एसएचओ अरविंद कुमार के निर्देशन में इंस्पेक्टर रमेशचंद हेड कांस्टेबल बलराम, प्यारेलाल,प्रभात और कांस्टेबल गौरव को आरोपियों को पकडऩे का जिम्मा सौंपा गया। जांच टीम ने मौके पर बेरिकेड्स लगाकर वाहनों की चेकिंग शुरू की।

इस बीच दोनों आरोपियों को सिविल लाइन इलाके से चोरी बुलेट बाइक के साथ गिरफ्तार किया। आरोपियों से पूछताछ करने पर पता चला कि बाइक दोनों ने आकाश नामक एक अन्य दोस्त के साथ चोरी की थी। उनकी निशानदेही पर पांच और चोरी की बाइकें जब्त की।

जम्मू कश्मीर: LoC पर देखे गए पाकिस्तानी लड़ाकू विमान, अलर्ट पर Indian Air force

सूत्रों की मानें तो तीनों इलाकों में चोरी की बाइक के साथ रेकी करते हैं। कुछ ही सेकेंड में बाइक का लॉक खोलकर बाइक लेकर फरार हो जाते हैं। वह कई बाईक ओलेक्स पर भी बेच चुके थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.