Monday, Jun 21, 2021
-->
pakistan ready response to major attack in kashmir djsgnt

कश्मीर में बड़े हमले की फिराक में पाकिस्तान, प्रदेश में शांति भंग की कोशिश

  • Updated on 11/20/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) की ओर जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) को फिर एक बार हिंसा के दौर में वापस लाने की कोशिश चल रही है। सूत्रों के मुताबिक आतंकियों की बड़ी संख्या में घुसपैठ की साजिश में पाकिस्तान जुट गया है। सूत्रों ने बताया कि जम्मू कश्मीर में अशांति 'भड़काने' और युवाओं को हथियार मुहैया कराने के लिए पाकिस्तान द्वारा नया तरीका अपनाया जा रहा है जिससे बढ़ते अंतरराष्ट्रीय दवाब के बीच किसी तरह की निगरानी से बचा जा सके।

एक सैन्य सूत्र ने कहा, 'पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर भारत की तरफ शांतिपूर्वक रह रहे ग्रामीणों को निशाना बनाकर इलाके में रहने वालों को यह संदेश देना चाहता है कि आतंकवाद को लेकर पाकिस्तानी निर्देशों की नाफरमानी जानलेवा साबित होगी।'

SC के फैसले को लेकर महाराष्ट्र के मंत्री का तंज- BJP सरकार में CBI बन गई है पान की दुकान

पीओके पर कर रही है हमला
उन्होंने कहा, 'नागरिकों को खास तौर पर निशाना बनाने की पाकिस्तानी सेना की कार्रवाई का जवाब भारतीय सेना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में संदिग्ध आतंकी लॉन्च पैड पर सटीक लक्षित हमले करके दे रही है।' सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान सहानुभूति बटोरने और अंतरराष्ट्रीय दानदाताओं से सहायता हासिल करने के उद्देश्य से वहां हो रही आतंकवादियों की मौत को नागरिकों की मौत के तौर पर दिखा रहा है। सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तानी सेना नियंत्रण रेखा से लगे भारतीय ठिकानों पर भी भारी हथियारों से गोलीबारी कर रही है। 

जम्मू-कश्मीर : CRPF जवान की पत्नी को 18 साल बाद मिली अनुग्रह राशि 

पाक को मुंहतोड़ जवाब
कड़ाके की सर्दी पड़ने से पहले भारत में अधिकतम आतंकियों की घुसपैठ कराने की पाकिस्तानी सेना की लगातार कोशिशों के जवाब में भारतीय सेना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में संदिग्ध आतंकी ठिकानों पर 'सटीक लक्षित हमले' कर रही है। सुरक्षा प्रतिष्ठान से जुड़े सूत्रों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। सेना ने स्पष्ट किया है कि बृहस्पतिवार को नियंत्रण रेखा पर कोई गोलीबारी या संघर्षविराम का उल्लंघन नहीं हुआ।

भारत- लक्जमबर्ग शिखर सम्मेलन: पीएम मोदी ने आर्थिक संबंधों को मजबूत करने पर दिया जोर 

डीप स्टेट की तैयारी
सीमा पार आतंकवाद के हाल के प्रयासों के संदर्भ में सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान में ‘डीप स्टेट’ (पर्दे के पीछे छद्म रूप से काम करने वाली सरकारी शक्तियां) ने आतंकवाद रोधी निगरानीकर्ता ‘एफएटीएफ’ की निगरानी से बचने और उसके साथ ही जम्मू कश्मीर में अशांति को हवा देने के लिए आतंकवादियों की मदद के उद्देश्य से संतुलन साधने की कोशिश की है।

कोरोना को लेकर नोएडा-दिल्ली बॉर्डर पर प्रशासन सख्त, होगी रैंडम टेस्टिंग

नहीं हुई गोलीबारी
सेना ने कहा कि बृहस्पतिवार को उसके द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक किये जाने संबंधी कयासपूर्ण खबरें '13 नवंबर को हुए संघर्षविराम उल्लंघन के विश्लेषण पर आधारित हैं। नियंत्रण रेखा पर आज कोई गोलीबारी या संघर्षविराम का उल्लंघन नहीं हुआ।' पाकिस्तान ने बीते शुक्रवार को संघर्ष विराम उल्लंघन की बड़ी घटना को अंजाम देते हुए उत्तरी कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर भारी गोलाबारी की जिसमें कम से कम चार नागरिकों के अलावा पांच सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई।

8 पाक सैनिक की मौत
भारतीय सेना ने इस संघर्ष विराम उल्लंघन का मुंहतोड़ जवाब देते हुए कई पाकिस्तानी ठिकानों पर टैंक रोधी निर्देशित मिसाइलों और तोपों से गोले दागे जिसमें कम से कम आठ पाकिस्तानी सैनिकों की मौत हुई और 12 अन्य घायल हो गए। सूत्रों ने कहा कि बीते कुछ हफ्तों में जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने में मदद के उद्देश्य से पाकिस्तानी सेना नियंत्रण रेखा पर भारत की तरफ के असैन्य क्षेत्रों को लगातार मोर्टार और अन्य भारी हथियारों से निशाना बना रही है।

वैज्ञानिकों ने कोरोना की 'सुपर वैक्सीन' बनाने का किया दावा, कहा- कई गुना ताकतवर है दवा 

18 नागरिक की हुई थी मौत
आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, 2019 में जहां पूरे साल में 18 नागरिक पाकिस्तान की गोलाबारी में मारे गए थे, वहीं इस साल अब तक 21 निर्दोष नागरिकों की जान पाकिस्तान की गोलाबारी में जा चुकी है। सूत्रों ने कहा कि भारतीय सेना द्वारा आतंकवादियों (अधिकतर पाकिस्तानी और विदेशी) को नाकाम करने के लिए खुफिया सूचना आधारित लक्षित हमले किए जा रहे हैं और इन अभियानों में अपनी तरफ नुकसान की गुंजाइश बेहद नगण्य रहती है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.