Monday, Jan 21, 2019

पाक की जांच टीम ने किया अनुरोध, धनशोधन के मामले में जरदारी की सभी संपत्ति हों जब्त

  • Updated on 1/6/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान में फर्जी बैंक खातों के जरिए 220 अरब रुपये का धन शोधन किए जाने की जांच कर रहे अधिकारियों ने पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली कारदारी तथा अन्य की सभी संपत्ति जब्त करने की सिफारिश की है। इसमें इन लोगों की अमेरिका और दुबई में स्थित संपत्ति भी शामिल है।   

जियो न्यूज ने खबर दी है कि संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने शनिवार को सर्वोच्च अदालत को एक रिपोर्ट दी है जिसमें कराची और लाहौर में स्थित मशहूर बिलावल हाउस तथा इस्लामाबाद स्थित कारदारी हाउस को जब्त करने की सिफारिश की गई है। जेआईटी ने कारदारी की अमेरिका के न्यूयॉर्क की और दुबई की संपत्तियों समेत कराची में बिलावल हाउस के सभी पांच प्लॉटों को जब्त करने का भी अनुरोध किया है।

प्रयागराज में पहली बार निकली किन्नर अखाड़े की देवत्व यात्रा, दर्शन को उमड़ा भारी जनसैलाब

 खबर में कहा गया है कि पूर्व राष्ट्रपति और अन्य व्यक्तियों के खिलाफ फर्जी खातों से करीब 220 अरब रुपये के धन शोधन से जुड़े मामले को लेकर जांच हो रही है। जांच टीम ने कारदारी, उनकी बहन फरयाल तालपुर और कारदारी समूह की मिल्कियत वाली सभी शहरी और कृषि कामीन को जब्त करने की सिफारिश की है।

शशि थरूर बोले- सहयोगियों का साथ छोड़ना BJP की डूबती नैया का संकेत

 आरोपों का खंडन करते हुए कारदारी और तालपुर ने कहा कि जेआईटी की रिपोर्ट अटकलों पर आधारित है और उन्हें राजनीतिक प्रतिशोध का निशाना बनाया जा रहा है। खबर में यह भी कहा गया है कि जेआईटी ने सर्वोच्च अदालत से ओमनी ग्रुप की चीनी मिल, कृषि कंपनियां और ऊर्जा कंपनियां समेत सभी संपत्तियों को जब्त करने के लिए आदेश देने का अनुरोध किया है।

मनीष सिसोदिया ने सुखपाल खैरा को सुनाई खरी-खरी, दी नसीहत

 खबर में कहा गया है कि कारदारी और ओमनी समूह पर कर्ज और सरकारी कोष में अनियमितता का आरोप लगाते हुए जांच टीम ने कहा कि दोनों समूहों ने ‘हुंडी’ और ‘हवाला’ के जरिए देश से बाहर पैसा भेजा। जेआईटी ने कहा कि सभी संपत्तियां मामले पर निर्णय आने तक जब्त रहें।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.