Saturday, Oct 01, 2022
-->
palghar lynching case advocate digvijay trivedi died road accident police pragnt

पालघर लिंचिंग केस: वकील की सड़क हादसे में मौत, BJP ने बताया बड़ी साजिश

  • Updated on 5/15/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। महाराष्ट्र (Maharashtra) के पालघर (Palghar) में हुई दो साधुओं की हत्या का केस लड़ रहे वकील के दिग्विजय त्रिवेदी (Digvijay Trivedi) की एक सड़क हादसे में मौत हो गई। वहीं इस दुर्घटना में उनकी एक सहयोगी महिला वकील भी गंभीर रूप से घायल हो गई हैं। वकील की मौत पर बीजेपी ने सवाल ने उठाए हैं और इसे बड़ी साजिश करार देते हुए जांच की मांग की है। हालाकि इस घटना के पीछे किसी की साजिश से पुलिस ने इनकार किया है।

1984 सिख दंगा: सज्जन कुमार को SC से झटका, जुलाई में जमानत पर सुनवाई

तेज रफ्तार के कारण पलटी कार
पुलिस का कहना है कि दिग्विजय त्रिवेदी और उनकी सहयोगी महिला पालघर जिले के दहानु में स्थित अदालत में जा रहे थे। दिग्विजय खुद कार चला रहे थे। अचानक उनकी कार मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर चरौटी नाका के पास सुबह करीब साढ़े नौ बजे पलट गई। पुलिस का मानना है कि हादसे के समय कार की रफ्तार काफी तेज थी और तभी कार ने अपना संतुलन खो दिया, जिसके बाद गाड़ी होकर पलट गई। 

जफरूल इस्लाम को मोबाइल और लैप-टॉप जमा करने के लिए दिल्ली पुलिस ने भेजा नोटिस

पुलिस ने घटना में साजिश होने से किया इनकार
कासा पुलिस स्टेशन के सहायक पुलिस निरीक्षक सिद्धवा जयभये ने बताया कि हाइवे पर स्किड निशान देखकर पता लगता है कि मृतक ने कार को संभालने की कोशिश की लेकिन गाड़ी अनियंत्रित होकर पलट गई। जयभये ने साफ शब्दों में कहा कि वकील दिग्विजय त्रिवेदी की मौत के पीछे कोई साजिश नहीं है यह सिर्फ एक दुर्घटना थी। मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए ले जाया गया है और फिलहाल दुर्घटनावश मौत के संबंध में मामला दर्ज किया गया है।

दिल्ली: घर से मास्क न पहनने कर निकलने वालों पर पुलिस सख्त, 24 घंटे में इतने मामले हुए दर्ज

कैसे हुआ हादसा?
बता दें कि विश्व हिंदू परिषद के वकील दिग्विजय त्रिवेदी (32) की सड़क हादसे में तब मौत हो गई जब वे बुधवार को अपनी कार से कोर्ट की ओर जा रहे थे। ये हादसा मुंबई-अहमदाबाद हाईवे (Mumbai-Ahmedabad Highway) पर हुआ। वे खुद कार चला रहे थे। वहीं उस कार में उनकी सहयोगी प्रीति त्रिवेदी भी सवार थी, जिनको गंभीर हालात में अस्पताल में भर्ती किया गया है। बता दें कि दिग्विजय त्रिवेदी राजनीतिक पार्टी बहुजन विकास अघाड़ी की लीगल सेल के प्रमुख थे।

दिल्ली हिंसा मामले में जामिया के AISA यूनिट सचिव से पुलिस ने 4 घंटे की पूछताछ

BJP ने की जांच की मांग
इस बीच बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने पालघर में संतों की हत्या मामले में वकील दिग्विजय त्रिवेदी की सड़क हादसे में मौत पर दुःख जताया है। साथ ही उन्होंने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी बड़े साजिश के तहत भी इस घटना को अंजाम दिया जा सकता है। बहरलाल यह जांच से स्पष्ट हो पाएगा। उन्होंने कहा कि विश्व हिंदू परिषद के वकील दिग्विजय त्रिवेदी के हादसे में मौत पर उद्धव सरकार को तत्काल जांच करानी चाहिये। उन्होंने कहा कि पालघर मामले को किसी ने उठाया तो कांग्रेस ने उस पर हमला बोला है।

कोरोना पॉजिटिव लड़की के सामूहिक दुष्कर्म में शामिल आरोपी की रिपोर्ट आई नेगेटिव

क्या है पूरा मामला
गौरतलब हो कि महाराष्ट्र में पिछले महीने पालघर में करीब 200 लोगों की भीड़ ने चोर होने के शक में 3 लोगों को बेरहमी से पीट-पीट कर मार दिया था। यह घटना पुलिस के सामने घटी थी। भीड़ को शक था कि तीनों लोग चोर हैं। मगर बाद में पता चला 3 में से 2 साधु और एक उनका ड्राइवर था। तीनों लोग कांदीवली से कार मे सवार होकर गुजरात के सूरत में एक श्राद कार्यक्रम में शिरकत करने जा रहे थे। मारे गए लोगों के नाम सुशील गिरि महाराज, चिकने महाराज कल्पवरुक्षगिरी और ड्राइवर नीलेश तेलगाड़े के तौर पर हुई है। हालांकि इस मामले अब तक 110 लोगों को हिरासत में लिया गया है और तमाशबीन बनी पुलिस को सस्पेंड भी कर दिया गया है।

comments

.
.
.
.
.