Thursday, Aug 11, 2022
-->
pnb-bank-scam-court-issued-warrant-against-nirav-modi-mehul-choksi-justify-antigua-citizenship

नीरव मोदी के खिलाफ कोर्ट वारंट जारी, एंटीगुआ में चोकसी ने दी सफाई

  • Updated on 7/27/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शहर की एक कोर्ट ने पंजाब नेशनल बैंक से जुड़े 13,000 करोड़ रुपये के घोटाले से संबंधित मामलों में आज भगौड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी और अन्य के खिलाफ खुली अवधि का गैर जमानती वारंट जारी किया।

राहुल गांधी बोले- 130,000 करोड़ रुपये का घोटाला है राफेल सौदा

धनशोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) मामलों के विशेष न्यायाधीश एम एस आजमी ने मोदी और 12 दूसरे भगौड़े आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने के आदेश दिए। 12 अन्य आरोपियों में नीरव मोदी के परिवार के लोग शामिल हैं। 

इमरान खान को मिली VVIP सिक्योरिटी, PM बनने के लिए छोटे दलों की दरकार

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने आरोपियों के खिलाफ खुली अवधि का गैर जमानती वारंट जारी करने की मांग को लेकर अदालत का रूख किया था और कहा था कि पिछला वारंट समय पर कार्यान्वित नहीं किया जा सका और कल उसकी अवधि समाप्त हो गई। कोर्ट ने ईडी द्वारा दायर किए गए आरोपपत्र का संज्ञान लेते हुए पिछला वारंट 12 जून को जारी किया था।

एंटीगुआ की नागरिकता पर चोकसी की सफाई 

पंजाब नेशनल बैंक के दो अरब डॉलर की धोखाधड़ी के मामले में फरार चल रहे हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी का दावा है कि उसने अपना व्यापार बढ़ाने के लिए पिछले वर्ष कैरेबियाई देश एंटीगुआ की नागरिकता ले ली थी। एंटीगुआ की स्थानीय मीडिया में आयी खबरों के अनुसार , चोकसी का दावा है कि एंटीगुआ के पासपोर्ट पर 132 देशों में बिना वीजा के यात्रा करने की छूट है। 

 रिलायंस की बैंक गारंटी पर हाई कोर्ट सख्त, मोदी सरकार से मांगा हलफनामा

अखबार ‘ डेली ऑबजर्वर ’ की खबर के अनुसार , चोकसी की ओर से उसके वकील डेविड डोरसेट ने बयान जारी कर कहा है कि भारतीय सरकार द्वारा लगाये जा रहे आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है। अखबार में प्रकाशित बयान के मुताबिक,  हालांकि , मैं कह सकता हूं कि मैंने सिटिजनशिप बाई इंवेस्टमेंट प्रोग्राम के तहत वैध तरीके से एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता के लिए आवेदन किया था। अपने आवेदन के दौरान मैं वह सब कुछ किया जो कानूनी रूप से आवश्यक था। नागरिकता के लिए मेरा आवेदन तय प्रक्रिया के तहत मंजूर हुआ है। 

'संजू' के निर्माताओं से खफा है गैंगस्टर अबू सलेम, अपनी 'प्रतिष्ठा' को बनाया मुद्दा

खबर के अनुसार , चोकसी ने नवंबर , 2017 में एंटीगुआ की नागरिकता ली है और 15 जनवरी , 2018 को देशभक्ति की शपथ ली है। बयान के मुताबिक, चोकसी इलाज के लिए जनवरी 2018 में अमेरिका में था। चोकसी का कहना है कि उसका आवेदन कैरेबियाई देशों में व्यापार बढ़ाने की मंशा और 130 से ज्यादा देशों की वीजा मुक्त यात्रा से प्रेरित था। बयान के मुताबिक, ‘‘ इलाज के बाद अब भी मैं स्वास्थ्य लाभ ले रहा हूं। ’’

मोदी सरकार की गंभीरता पर संदेह : कांग्रेस

कांग्रेस ने पंजाब नेशनल बैंक के दो अरब डॉलर की धोखाधड़ी के मामले में फरार चल रहे हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी के एंटीगुआ की नागरिकता लेने को लेकर आज नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और दावा किया इससे सरकार की गंभीरता पर संदेह पैदा होता है।

राफेल सौदा : कांग्रेस ने मोदी सरकार, रिलायंस डिफेंस पर फिर दागे सवाल

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह दुखद है कि मोदी सरकार बैंको को ठगने वालों को देश से बाहर भागने से रोकने और उनको कानून की जद में लाने में विफल रही। हमारा सवाल है कि चोकसी ने हांगकांग, यूएई, बेलिज्यम, ब्रिटेन, अमेरिका और एंटिगुआ की यात्रा कैसे की?'

NCW चीफ बोलीं- आरक्षण से नेताओं की बेटियों-पत्नियों को ही मिलेगा लाभ

उन्होंने आरोप लगाया कि इससे चोकसी को वापस लाने के संदर्भ में मोदी सरकार की गंभीरता पर संदेह पैदा होता है। दरअसल, चोकसी ने दावा किया है कि उसने अपना व्यापार बढ़ाने के लिए पिछले वर्ष कैरेबियाई देश एंटीगुआ की नागरिकता ले ली थी। एंटीगुआ की स्थानीय मीडिया में आयी खबरों के अनुसार, चोकसी का दावा है कि एंटीगुआ के पासपोर्ट पर 132 देशों में बिना वीजा के यात्रा करने की छूट है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.