Wednesday, Dec 01, 2021
-->
police-arrested-a-accused-chandigarh-to-sell-girls

छात्राओं को बेचने के लिए चंडीगढ़ ले गई दंपति, एक आरोपी को पुलिस ने दबोचा

  • Updated on 2/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी इलाके से दो नाबालिग छात्राओं को अगवा कर बेचने के लिए एक दंपति चंडीगढ़ ले गया था। उसके बाद उन्हें बंधक बनाकर पंजाब के मोहाली इलाके में छिपा कर रखा था। लेकिन वह लड़की को बेच पाते, इससे पहले ही पुलिस ने दोनों छात्राओं को सकुशल बरामद कर लिया।

पुलिस ने खेजारी, सेक्टर-52 चंडीगढ़ निवासी बाबू को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि मुख्य आरोपी दंपति निशा और उसका पति वीरू फरार है। पुलिस की टीमें उनकी तलाश कर ही हैं।

इलाज में हुई देरी को तीमारदारों ने किया हंगामा, अस्पताल में जमकर चले लात-घूंसे

पुलिस अधिकारी के मुताबिक, 8 फरवरी को न्यू फ्रेंड़्स कॉलोनी के खिजराबाद से आठवीं और नौवीं कक्षा में पढऩे वाली 14 और 16 साल की नाबालिग छात्राएं गायब हो गई थीं। दोनों छात्राओं को एक दंपति घुमाने की बात कहकर बेचने की नियत से 
चंडीगढ़ ले गया था। वहां एक होटल में उनके सौदे के प्रयास भी किए गए। लेकिन सौदा न होने पर दोनों किशोरियों को पंजाब के मोहाली में छिपा दिया गया। 

पुलिस के मुताबिक, 8 फरवरी को 16 वर्षीय किशोरी के माता-पिता ने न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी थाने में अपनी बेटी के गायब होने की सूचना दी थी। उनका कहना था कि उनकी बेटी नौंवी कक्षा में पढ़ती है। शुक्रवार को वह अपने पड़ोस में रहने वाली 14 वर्षीय किशोरी व सातवीं कक्षा की छात्रा के साथ स्कूल गई थी।

इसके बाद वह वापस नही लौटी। तब पुलिस ने संबंधित धाराओं में एफआईआर दर्ज कर लिया। एसीपी जगदीश यादव की देखरेख व एसएचओ राजेश मिश्रा के नेतृत्व में एसआई विष्णु दत्त, सिपाही रामअवतार,कुलदीप और महिला सिपाही नविंद्र कौर की टीम ने किशोरियों की तलाश शुरू कर दी।

4 साल केजरीवाल- तूफान सी हुंकार भर रेगिस्तान में मिराज जैसा रहा दिल्ली सरकार का सफर

अज्ञात नंबर से छात्राओं को पुलिस ने खोज निकाला
पुलिस छात्राओं की तलाश के लिए जांच कर रही थी। इसी दौरान एक किशोरी की सहेली से पता चला कि उसके पास गायब हुई किशोरी का अज्ञात नंबर से कॉल आया था। पुलिस ने नंबर की पड़ताल की तो नंबर किसी बाबू चंडीगढ़ का आया था। जांच में यह भी पता चला कि लड़कियों के पड़ोस में चंडीगढ़ के रहने वाले निशा व वीरू नामक दंपति आए थे।

आठ फरवरी को ही वह चडीगढ़ वापस लौटे हैं। पुलिस एक टीम तुरंत चडीगढ़ के खेजारी गांव भेजा गया। वहां ऑटो चलाने वाले बाबू को दबोच लिया गया। उसने पुलिस को बताया कि वह ऑटो चालक वीरू का दोस्त है। दोनों होटल में सवारियों को लेकर जाते हैं। वीरू और उसकी पत्नी निशा ने दोनों लड़कियों को बेचने की नियत से अगवा किया है।

नायडू के अनशन में पहुंचे दिव्यांग ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में हुआ ये खुलासा

बाबू ने बताया कि लड़कियों को बेचने की कोशिश की गई, लेकिन उनका सौदा नही हुआ। बाबू ने बताया कि उसने दोनों लड़कियों को अपने एक रिश्तेदार के यहां मोहाली में रखा हुआ है। बाबू की निशानदेही पर दोनों लड़कियों को मोहाली से बरामद कर लिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.