Tuesday, Sep 28, 2021
-->
Prisoner Murder inside tihar Jail Gangwar KMBSNT

तिहाड़ जेल के अंदर कैदी की हत्या, एक दिन बाद होनी थी बेल

  • Updated on 5/15/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। तिहाड़ जेल में शुक्रवार सुबह आपसी रंजिश में एक विचाराधीन कैदी की हत्या कर दी गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में सुरक्षित रख दिया है। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक मृतक कैदी की पहचान श्रीकांत उर्फ पप्पू के रूप में हुई है।

2015 में श्रीकांत तिहाड़ जेल में हत्या चोरी आदि के मामले में बंद हुआ था। वह जेल नंबर 2 में था। सुबह जेल प्रशासन को उसे कुछ कैदियों द्वारा धारदार हथियार से घायल करने की जानकारी मिली थी। मौके पर पहुंच कर देखा श्रीकांत खून से लथपथ हालत में पड़ा हुआ था। उसे तुरंत डीडीयू अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

दिल्ली: विभाग ने वापस लिया आदेश, अब मुफ्त मिलेगा राशन

आरोपियों से पहले भी हुआ था श्रीकांत का झगड़ा
डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर होता देख कर उसे सफदरजंग अस्पताल में शिफ्ट कर दिया। इसके कुछ देर बाद डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वारदात की जानकारी पुलिस ने मृतक के परिवार वालों को दी। वारदात में इस्तेमाल हथियार जब्त कर लिया गया है। पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। साथ ही जेल में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को भी देखा जा रहा है। शुरुआती जांच में पता चला है कि श्रीकांत और आरोपियों का पहले भी झगड़ा हो चुका था।

जेल से कैदी ने फोन कर बताई श्रीकांत की हत्या की बात
परिवार वालों ने बताया कि श्रीकांत सेक्टर -7 रोहिणी इलाके में रहता था। परिवार में माता-पिता, बहने और बड़ा भाई है। श्रीकांत को शनिवार या फिर रविवार को बेल मिल जानी थी। उसके लिए परिवार पैसों का इंतजाम कर रहा था। शुक्रवार को जेल नंबर 2 से किसी कैदी ने उसकी मां को फोन कर बताया कि श्रीकांत पर जेल में बंद कुछ युवकों ने हमला कर दिया है। जिसमें उसकी मौत हो गई है।

कोरोना काल में दिल्ली सरकार का बड़ा ऐलान- अनाथ बच्चों और बुजुर्गों की करेगी मदद

शनिवार या रविवार तक मिल जानी थी बेल
परिवार का कहना है कि श्रीकांत का सोमवार को जन्मदिन भी था। परिवार उसका जन्मदिन उसके साथ ही मनाना चाहता था। इसीलिए भी उसकी जमानत की पूरी कोशिश कर रहे थे। उनका कहना है कि जब तिहाड़ जेल में आए तो रात तक किसी जेल अधिकारी ने नहीं बताया कि श्रीकांत की हत्या कर दी गई है। उन्होंने खुद ही पता लगाया कि श्रीकांत के शव को सफदरजंग अस्पताल की मोर्चरी में रखा गया है। परिवार ने देर रात तक जेल नंबर चार के बाहर प्रदर्शन किया। 

comments

.
.
.
.
.