Thursday, Dec 08, 2022
-->
rahul-rajput-murder-case-6th-accused-arrested-kmbsnt

राहुल राजपूत हत्याकांड: छठा आरोपी गिरफ्तार, पीड़ित पिता ने की फांसी की मांग

  • Updated on 10/14/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के आदर्श नगर (Adarsh Nagar) की मूलचंद कॉलोनी में बीते बुधवार की रात को राहुल नामक युवक को पीट-पीटकर मार दिया गया था। वारदात के पीछे प्रेम प्रसंग का मामला था। आरोपी लड़की के दो भाई और तीन नाबालिग मामा के लड़के थे। पुलिस (Delhi Police) अधिकारियों ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ करने के बाद कुछ आरोपियों की पहचान की गई थी। उनके परिवार से उनके ठिकाने का पता करके छापेमारी भी की जा रही थी।

उन्होंने पुलिस को चकमा देने के लिए अपने मोबाइल फोन बंद किए हुए थे, जिससे उनके लोकेशन ट्रेस ना हो सके। अब पुलिस ने एक और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है, जो सीसीटीवी कैमरा में दिखाई दे रहा है। आरोपी की पहचान शुभम भारद्वाज के रूप में हुई है। वह 18 साल का है।

राहुल राजपूत हत्याकांड: परिवार के खिलाफ खड़ी हुई प्रेमिका, मांगी पुलिस सुरक्षा

जहांगीरपुरी का रहने वाला है छठा आरोपी
शुभम परिवार के साथ जहांगीरपुरी इलाके में रहता है। इसके बारे में लड़की के पकड़े गए दोनों भाइयों ने भी बताया था। अभी भी कुछ और फरार आरोपियों के पकड़े जाने की कोशिश की जा रही है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जो पहले नाबालिग पकड़े गए हैं उनके बर्थ सर्टिफिकेट की जांच की जा रही है, जिससे उनकी उम्र सही सही पता लग सके।

उन्होंने बताया था कि जिस तरह से लड़की का 2 दिन पहले एक वीडियो सामने आया था जिसमें लड़की कुछ पुलिसवालों पर सहायता नहीं करने का आरोप लगा रही है, इस मामले को लेकर भी जांच की जा रही है। उस वक्त पुलिस पोस्ट में कौन-कौन पुलिसवाला तैनात था और लड़की ने उनसे क्या बोला था।

ट्यूटर हत्या मामला: राहुल के परिवार से मिले मनीष सिसोदिया, किया मुआवजे का ऐलान

राहुल की हत्या से एनजीओ वाले हैरान
वहीं दूसरी तरफ राहुल के पिता संजय राजपूत ने बताया कि राहुल की हत्या के बाद उसकी एनजीओ के सदस्य भी हैरान है जिन्होंने घर आकर राहुल की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की और परिवार को सांत्वना दी। उन्होंने बताया कि राहुल इलाके में स्थित एक एनजीओ से जुड़ा हुआ था। उसने वहीं से अंग्रेजी सीखी थी। उसकी अंग्रेजी अच्छी होने की वजह से एनजीओ के लोगों ने उसे जोड़ लिया था। राहुल वहीं पर बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाया करता था। जो वह पढ़ता था उसके बारे में बच्चों को जानकारी भी दिया करता था। राहुल के पिता ने कहा कि जब तक उसके आरोपियों को फांसी की सजा नहीं मिल जाती तब तक शांति नहीं मिलेगी। 

एनजीओ के कुछ सदस्यों व राहुल से अंग्रेजी की शिक्षा लेने वाले युवकों ने बताया कि उन्होंने अपना टीचर खो दिया है। जो बड़े-बड़े सपने देखता था और पूरा करने की कोशिश कर रहा था। वह बच्चों को पढ़ाते हुए भी उनको बड़े सपने देखने की बात कहा करता था। उनका कहना है कि राहुल एक अच्छे शिक्षक की तरह बच्चों को पढ़ाया और समझाया करता था आरोपियों ने राहुल को ही नहीं उसके सपनों को भी मार दिया है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.