Wednesday, Dec 07, 2022
-->
ranjit-nagar-lady-doctor-murder-case-police-searching-accused-chandra-prakash

रंजीत नगर लेडी डॉक्टर मर्डर केस: आरोपी चंद्रप्रकाश की धर-पकड़ हुई तेज, 6 टीमें दे रहीं दबिश

  • Updated on 5/3/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। एमबीबीएस डॉक्टर गरिमा मिश्रा मर्डर केस के बाद फरार डॉक्टर चंद्रप्रकाश अभी पुलिस की पकड़ से दूर है। उसकी तलाश में 6 टीमें जयपुर, आगरा, गौतमबुद्ध नगर व दिल्ली में संभावित जगहों पर दबिश डाल रही है। पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि इस वारदात के बाद डॉक्टर ने अपने घर कॉल कर परिवार से बड़ी गलती हो जाने की बात कही थी।

मोबाइल बंद करने से पहले उसने 7 कॉल भी की थी। घटना वाली रात करीब 9 बजे उसका मोबाइल बंद हो गया। पुलिस की तफ्तीश पूरी तरह से टेक्नीकल सर्वलांस पर केंद्रित है।

गुस्सा बना घातक, मामूली बात पर हुई कहासुनी में दो बहनों ने खाया जहर, मौत

उसके मोबाइल की कॉल डिटेल निकाल उसके संपर्क में रहने वाले लोगों के नंबर खंगाले गए हैं, ताकि उनके जरिए पुलिस इस संदिग्ध आरोपी तक पहुंच सके। पुलिस अधिकारी आशंका जता रहे हैं कि आरोपी अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के यहां छुपा हुआ है। 

SC वसूलेगा आम्रपाली ग्रुप से 9 हजार 590 करोड़ रुपए, जाने क्यों?

सीसीटीवी फुटेज में भागता दिखा चंद्र प्रकाश
छानबीन के दौरान पुलिस को रंजीत नगर इलाके में एक मकान के बाहर लगे सीसीटीवी की फुटेज मिली है, जिसमें चंद्र प्रकाश बैग लेकर भागते हुए दिखाई दे रहा है।

माना जा रहा है कि आरोपी रंजीत नगर से आनंद विहार या कहीं और भागने के लिए ऑटो लिया होगा। पुलिस रंजीत नगर इलाके में रहने वाले ऑटो चालकों से भी पूछताछ कर रही है।

पंजाब शिक्षा विभाग ने लगाई सरकारी अध्यापकों के कक्षाओं में मोबाइल उपयोग पर रोक

दूसरी ओर जांच के दौरान पुलिस को पता चला है कि गरिमा से मुलाकात होने के बाद आरोपी चंद्र प्रकाश उसके नजदीकियां बढ़ाना चाहता था, लेकिन यह बात गरिमा को पसंद नहीं थी। कई बार उसने इसका विरोध भी किया था।

गरिमा के परिजनों ने पुलिस को बताया है कि गरिमा ने करीब 2 माह पूर्व परिजनों को कॉल कर अपने साथ रहने वाले साथी डॉक्टर द्वारा परेशान करने की बात की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.