Wednesday, Dec 07, 2022
-->
ranjit-nagar-lady-doctor-s-murder-mystery-solved

रंजीत नगर: लेडी डॉक्टर की मर्डर मिस्ट्री सुलझी, वीडियो कॉलिंग बनी हत्या की बड़ी वजह!

  • Updated on 5/2/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आशिकी में नाकाम हुआ तो गुस्साए प्रेमी ने प्रेमिका की गला रेत हत्या कर दी। जिस महिला की हत्या हुई हे वह पेशे से डाक्टर है और फ्लैट में रहकर एमडी की तैयारी कर रही थी। महिला डाक्टर एमडी से पहले दो निजी अस्पताल में प्रैक्ट्रिस कर चुकी थी।

उसका शव खून से लथपथ उसके फ्लैट रंजीत नगर में मिली। मृतका डाक्टर का नाम डॉ. गरिमा मिश्रा (29)  है जबकि हत्यारोपी चंद्रप्रकाश उर्फ सीपी है। पुलिस के मुताबिक घटना के बाद से ही आरोपी फरार है। 

बेटी की लव मैरिज पिता को थी नागवार, दामाद को उतारा मौत के घाट

डॉ. गरिमा अपने दो दोस्त चंद्र प्रकाश वर्मा उर्फ सीपी और राकेश यादव के साथ 3132, गली नंबर-2, रंजीत नगर में रहती थी। चंद्रप्रकाश और गरिमा 3 माह पूर्व करोलबाग स्थित एनसी जोशी हॉस्पिटल में डॉक्टर थे। वहीं राकेश यादव अपोलो हॉस्पिटल में अभी डॉक्टर हैं।

मंगलवार करीब 8:30 बजे दिल्ली के शेख सराय में रहने वाले गरिमा के बुआ के लड़के शिवेंद्र पांडेय ने उसे कॉल किया, लेकिन कई बार फोन करने के बाद भी जब उनका फोन नहीं उठा। इस बीच उसकी मां ने भी गरिमा को कॉल किया।

उनका भी गरिमा ने कॉल नहीं उठाया। मां ने शिवेंद्र को कॉल कर गरिमा को जाकर देखने के लिए कहा। रात करीब 11:00 बजे शिवेंद्र गरिमा के फ्लैट पर पहुंचा तो उसके कमरे का बाहर से ताला बंद था। अंदर पंखा चल रहा था। शक होने पर उसने रोशनदान से झांककर देखा तो खून से लथपथ गरिमा को फर्श पर पड़ा देखा। 

गरमाया सिख दंगा मामला, शुरू हुआ आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला

शिवेंद्र ने शोर मचाकर पड़ोसियों को इकट्ठा किया। पुलिस को सूचना देने के बाद फौरन दरवाजा तोड़ा गया। बाद में कैट्स एंबुलेंस की मदद से गरिमा को लेडी हाॄडग हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। 

उसके गले पर किसी धारदार हथियार से कट का निशान मिला है। क्राइम टीम को गरिमा के कमरे से झगड़े के निशान भी मिले हैं। वहीं गरिमा के साथ ही रहने वाले उसके दोस्त राकेश यादव ने बताया कि रात करीब 9:15 बजे उसने चंद्र प्रकाश को बैग लेकर हड़बड़ाहट में जाते हुए देखा था। इसके बाद से लगातार उसका मोबाइल भी बंद आ रहा है। 

वीडियों कॉलिंग बनी हत्या की बड़ी वजह
कुछ दिन पहले चंद्र प्रकाश ने गरिमा को किसी से वीडियो कॉलिंग करते हुए देख लिया था। इसपर चंद्र प्रकाश ने उसे चेतावनी दी तो वह उससे दूरियां बनाने की कोशिश करने लगी। ऐसे में ये साफ है कि इन्हीं दूरियों की वजह से चंद्र प्रकाश तनाव में रहने लगा और उसने गुस्से में आकर गरिमा की बेरहमी से हत्या कर दी और मौके से फरार हो गया।

मजदूर दिवस: उत्तर प्रदेश में 500 मजदूरों पर चली गोलियां, क्या है पूरा मामला

मकान मालिक गौतम खुराना के मुताबिक तीनों ने मिलकर दो रूम का फ्लैट किराए पर लिया हुआ था। एक कमरे में गरिमा रहती थी, जबकि दूसरे कमरे में राकेश व चंद्र प्रकाश एक साथ रहते थे। गरिमा व चंद्र प्रकाश ने एमडी की तैयारी करने के लिए जनवरी माह में हॉस्पिटल से एक साथ नौकरी छोड़ दी थी। 

छानबीन के दौरान पुलिस को पता चला है कि गरिमा ने अपने मोबाइल से रात करीब 8 बजे दिल्ली में रहने वाले अपने बुआ के लड़के शिवेंद्र पांडेय को कॉल किया था, लेकिन वह फोन नही उठा पाया। इसके बाद गरिमा ने बंगलूरू में रहने वाले अपने सगे भाई ज्योर्तिमय मिश्रा से बातचीत की। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.