Thursday, Jun 17, 2021
-->
red fort violence court sent deep sidhu on 7 days remand kmbsnt

Red Fort Violence: मुश्किल में दीप सिद्धू! कोर्ट ने 7 दिन के लिए क्राइम ब्रांच को दी रिमांड

  • Updated on 2/16/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गणतंत्र दिवस के दिन राजधानी में हुई हिंसा के मामले में पुलिस लगातार जांच कर रही है और आरोपियों की गिरफ्तारियां भी हो रही हैं। 26 जनवरी के दिन ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) की आड़ में दिल्ली के लाल किले पर हुई हिंसा (Red Fort violence) के मामले में मुख्य आरोपी दीप सिद्धू (Deep Sidhu) को दिल्ली की एक अदालत ने 7 दिन के लिए क्राइम ब्रांच की रिमांड पर भेज दिया है। इससे पहले भी सिद्धू को 7 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा गया था, जो समाप्त हो रही थी, ऐसे में दिल्ली पुलिस के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कोर्ट ने सिद्धू की रिमांड अब 7 दिन के लिए क्राइम ब्रांच को दे दी गई है। 

इससे पहले क्राइम ब्रांच की टीम ने सिद्धू और इकबाल सिंह को लाल किले पर ले जाकर क्राइम सीन रिक्रिएट किया था। इस दौरान पुलिस को हिंसा की साजिश के कई संकेत मिले। वहीं क्राइम ब्रांच ने ये भी पता लगाया है कि सिद्धू ने व्हाट्सएप और मैसेंजर पर दो ग्रुप बनाए हुए थे, जिसमें आरोपी लक्का सधाना और जुगराज भी जुड़े हुए थे। जानकारी के लिए आपको बता दें कि जुगराज ही वो आरोपी है जिसने लाल किले पर निशान साहेब का झंडा फहराया था। 

टूलकिट मामले में खालिस्तानी-आईएसआई कनेक्शन, भजन सिंह और पीटर फ्रेडरिक का नाम आया सामने

हिंसा की साजिश के लिए बनाया व्हाट्सएप ग्रुप
क्राइम ब्रांच के अधिकारियों की मानें तो ये ग्रुप हिंसा की घटना से काफी पहले ही बना लिए गए थे। इसमें हिंसा की साजिश रचने की बाते भी हुआ करती थी। पुलिस पुख्ता जानकारी जुटाने के लिए सिद्दू के मोबाइल को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज रही है। ताकि ग्रुप में होने वाली बातों का पता लगाया जा सके। माना जा रहा है कि इन ग्रुप्स में ही आरोपियों ने लाल किला हिंसा की साजिश पहले से ही रच ली थी। हालांकि इस बात की पुष्टि फॉरेंसिक रिपोर्ट सामने आने के बाद ही हो सकेगी।  

विदेशी फंडिंग की कड़ियां जोड़ रही क्राइम ब्रांच
लालकिला हिंसा के पीछे की साजिश से पर्दा उठाने के लिए क्राइम ब्रांच ने आरोपी दीप सिद्धू, इकबाल सिंह और सुखदेव सिंह के खातों को भी खंगालना शुरू कर दिया है। सूत्रों के अनुसार, हिंसा करने वाले आरोपियों को मोटी फंडिग की गई थी और उपद्रव करने के बाद इनके खातों में रकम भी भेजी गई ताकि ये अपना बचाव कर सकें। हालांकि अभी तक तीनों से पूछताछ में केवल इसे एक आक्रोश में हुई घटना बताया जा रहा है, जिसके बाद से अब क्राइम ब्रांच तीनों आरोपियों को एक साथ बैठाकर आमना-सामना कराएगी। 

दिशा रवि की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने ‘टूलकिट’ से जुड़े लिंक जोड़ने का किया दावा

विदेशी मीडिया तक खबर पहुंचाने को हुई ये साजिश 
जांच में पता चला है कि आरोपी सुखदेव सिंह को इसलिए लाहौरी गेट की तरफ से भेजा गया था, क्योंकि वहां पर विदेशी मीडिया का जमावड़ा था और इसीलिए उसने वहां भाषण भी दिया और फिर उसे वायरल कराया। उसकी मंशा थी कि अगर वे वहां से कोई हरकत करेगा और उपद्रवी आक्रोश दिखाते हुए लालकिले तक जाएंगे तो विदेशी मीडिया भी वहां पर पहुंचेगी और वो सब चलेगा, जिससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की छवि खराब हो। बता दें कि सुखदेव सिंह पर आरोप है कि भीड़ को लालकिला परिसर में और अधिक हिंसा करने के लिए भड़का रहा था। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.