Monday, Sep 20, 2021
-->
sagar dhankhar murder case chargesheet police field in rohini court today kmbsnt

सागर धनखड़ हत्याकांड: क्राइम ब्रांच ने दाखिल की 170- Page की चार्जशीट

  • Updated on 8/2/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड में मुख्य आरोपी ओलंपिक पदक विजेता सुशील पहलवान और उसके साथियों के खिलाफ आज सोमवार को दिल्ली क्राइम ब्रांच कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है। दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने रोहिणी कोर्ट में 170 पेज की चार्जशीट दाखिल की है। इसमें पहलवान सुशील कुमार को मुख्य आरोपी बनाया गया है।

3 महीने की पुलिस तफ्तीश में यह मामला वर्चस्व की लड़ाई और संपत्ति विवाद से जुड़ा हुआ मिला। पुलिस हत्या, हत्या की कोशिश, जानलेवा हमला कर चोट पहुंचाना, अपहरण, दंगा फैलाना, आपराधिक साजिश, आर्म्स एक्ट समेत आईपीसी की 18 संगीन धाराओं में चार्जशीट दर्ज करेगी।

पेगासस जासूसी के आरोपों की जांच की सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट ने तय की तारीख 

ये सबूत भी चार्जशीट में शामिल
वहीं मारपीट की घटना जिस मोबाइल फोन में कैद हुई उसकी फॉरेंसिक रिपोर्ट, सीसीटीवी फुटेज, छत्रसाल स्टेडियम में मौजूद लोगों के बयान भी चार्जशीट में शामिल किए गए हैं।

बता दें कि 4-5 मई की रात पहलवान सागर धनखड़ की हत्या के वक्त सुशील ने गैंगस्टर काला जेठेड़ी के भांजे संदीप महाल की पिटाई कर दी थी। उसके बाद से काला जठेड़ी सुशील से बदला लेना चाहता था। हालांकि उसका मकसद पूरा नहीं हुआ और वह पकड़ा गया।

नीतीश कुमार, के सी त्यागी ने की ओमप्रकाश चौटाला से मुलाकात 

सुशील का कई गैंगस्टरों से गठजोड़
तफ्तीश में पता चला है कि सुशील का कई गैंगस्टरों से गठजोड़ था। सागर पहलवान की हत्या की वजह सुशील कुमार की पत्नी के फ्लैट का विवाद था। जिसमें सागर रहता था। सुशील इसीलिए भी सागर से बेहद नाराज था क्योंकि सुशील पहलवान के खेमे के जूनियर पहलवान सागर पहलवान के खेमे में चले गए थे। हत्या के इस मामले में कुल 20 आरोपी हैं। जिसमें क्राइम ब्रांच दिल्ली और हरियाणा से 15 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। इस केस में अभी भी 5 लोग फरार हैं। पुलिस ने इस केस में 50 से ज्यादा गवाह बनाए।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.