Friday, May 07, 2021
-->
Senior auditor of home ministry in south delhi stabbed to death inside his house

गृहमंत्रालय के लेखा अधिकारी की हत्या

  • Updated on 7/8/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जैतपुर (Jaitpur) थाना इलाके में रहने वाले गृह मंत्रालय (Home Ministry) में लेखा अधिकारी (Senior Auditor) के पद पर कार्यरत आनंद सिंह (Anand Singh) की उनके घर में ही हत्या कर दी गई है। वारदात के वक्त अधिकारी अपने कमरे में अकेले सो रहे थे। आनंद सिंह (43) गृह मंत्रालय के वरिष्ठ लेखा परीक्षक (ऑडिटर) थे। वह आईटीओ स्थित दफ्तर में काम करते थे। शनिवार सुबह करीब सवा तीन बजे उनकी मां ने उनके कमरे से खून बाहर निकलता देखा तो फौरन अंदर गईं तो उन्हें आनंद खून से लथपथ स्थिति में बिस्तर पर पड़े मिले। उनके सिर के पीछे गहरे जख्म के निशान मिले, जिससे खून निकल रहा था। पुलिस  हत्या की धारा में मामला दर्ज कर, परिजनों से पूछताछ कर रही है।   

आतंक से निपटने के लिए भारतिय सेना खरीदेगी एक्सकैलिबर M982 अमरीका से

कमरे में खून से लथपथ हालत में मिले
आनंद अपने परिवार के साथ मकान नंबर ई-112/13, ओम विहार, बदरपुर में रहते थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी, दो बेटे और एक बेटी हैं। उनके दो भाई भी हैं, जो इसी मकान में रहते हैं। परिवार के अन्य सदस्य आसपास ही रहते हैं। उनके बेटे दीपक ने बताया कि शुक्रवार रात उनके पिता दफ्तर से काफी देरी से आए थे। उन्होंने घर के लोगों को बताया था कि वह खाना खाकर आए हैं और सीधे अपने कमरे में सोने चले गए। घर के लोगों ने भी थका हुआ होने के कारण उन्हें परेशान नहीं किया। सुबह करीब सवा तीन बजे जब उनकी मां सोकर उठी तो उन्होंने पाया कि आनंद के कमरे के दरवाजे के नीचे खून बहकर बाहर आ रहा है। यह देख आवाज लगाते हुए सबसे पहले यह जानकारी दीपक को दी। दीपक ने बगल के कमरे में सो रहे अपने चाचा मुकेश को इस बारे में बताया, जिसके बाद परिवार के अन्य सदस्य भी कमरे में पहुंच गए। आनंद को खून से लथपथ स्थिति में देख पूरे घर में कोहराम मच गया। लोग इकट्ठा हो गए, जिसके बाद करीब सुबह 5 बजे इसकी सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने पाया कि सिर के पिछले हिस्से पर चोट के निशान हैं। पुलिस उन्हें पास के अस्पताल में लेकर गई, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

क्या कांग्रेस नेहरू-गांधी परिवार के ठप्पे के बिना रह सकती है

परिजनों ने डेढ़ घंटे देरी से किया फोन 
परिजनों ने पुलिस को दिए बयान में बताया है कि उन्हें करीब 3 बजे आनन्द की हत्या की जानकारी मिली। लेकिन पुलिस को फोन 5 बजे किया गया। ऐसे में पुलिस परिजनों से यह पूछताछ कर रही है कि आखिर उन लोगों ने पुलिस को डेढ़ घंटे देरी से फोन क्यों किया? पूछताछ में उन लोगों ने बताया कि घटना देखकर सभी हतप्रभ थे और पहले दिल्ली में ही रहने वाले अपने कई रिश्तेदारों को फोन कर घर बुला लिया था। घर आए उन्हीं रिश्तेदारों में से किसी ने इसकी सूचना पुलिस को दी। वैसे पुलिस सभी से पूछताछ के साथ ही मौत की सही वजह जानने के लिए पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। 

भारत के इस स्टेडियम खेला जाएगा अफगानिस्तान प्रीमियर क्रिकेट लीग, BCCI ने दी मंजूरी

उत्तराखंड के रहने वाले थे
मामला गृह मंत्रालय के अधिकारी की हत्या से जुड़ा होने के कारण दिल्ली पुलिस के अधिकारी कुछ भी खुलकर नहीं बोल रहे हैं। डीसीपी चिन्मय बिश्वाल का कहना है कि जैतपुर थाना पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर लिया है और आगे की कार्रवाई की जा रही है। आनंद मूलरूप से उत्तराखंड के रहने वाले थे।  

मुख्य दरवाजा था बंद, तो किसने की हत्या?
 जब पुलिस मौके पर पहुंची तो बताया गया कि रात में घर का मुख्य दरवाजा बंद था। इस पर जब पुलिस ने बंद घर के अंदर के कमरे में किसी और के घुसने वाली बात पर पूछताछ शुरू की तो, घर के लोगों ने बताया कि गर्मी के कारण मुख्य दरवाजा बंद नहीं किया गया था। सबसे अंत में अनंद ही सोने गए थे, संभवत: उन्होंने ही दरवाजा खुला छोड़ दिया होगा। इसी का फायदा उठाकर हत्यारा घर में घुसा होगा और हत्या को अंजाम दे फरार हो गया होगा। 

नहीं थी किसी से दुश्मनी
परिजनों ने बताया कि आनंद सिंह या परिवार के किसी भी सदस्य की किसी से भी दुश्मनी या रंजिश नहीं थी। इसके कारण उन्हें किसी पर भी संदेह नहीं है। आस पड़ोस से भी उनके काफी अच्छे संबंध से। परिजन यह भी संभावना जता रहे हैं कि संभवत: गेट खुला होने के कारण रात में कोई अपराधी चोरी को अंजाम देने घुसे होंगे और हड़बड़ी में हत्या कर फरार हो गए होंगे। 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.