Tuesday, Jan 25, 2022
-->
sexual-harassment-case-court-unhappy-over-transfer-of-delhi-police-case-to-ghaziabad-rkdsnt

यौन उत्पीड़न मामला: दिल्ली पुलिस के मामले को गाजियाबाद ट्रांसफर करने पर कोर्ट नाखुश

  • Updated on 12/2/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिल्ली पुलिस द्वारा कथित यौन उत्पीड़न के मामले में ‘जीरो’ प्राथमिकी दर्ज करने के बाद इसे जांच के लिए गाजियाबाद स्थानांतरित करने पर अप्रसन्नता व्यक्त की है। उच्च न्यायालय ने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि नागरिकों की जिंदगी और स्वतंत्रता की रक्षा के लिए बने संस्थान अपनी जिम्मेदारी दूसरों पर थोपने में जल्दबाजी दिखाते है जो आम नागरिकों के विश्वास को कमजोर करता है। 

गौतम अडानी ने की ममता से मुलाकात, पश्चिम बंगाल में निवेश को लेकर चर्चा 

जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद ने कहा कि चूंकि कथित यौन उत्पीडऩ की घटनाओं में से एक पूर्वी दिल्ली में जीटीबी एन्क्लेव पुलिस थाने के आसपास हुई थी, इसलिए यही आधार राष्ट्रीय राजधानी में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए पर्याप्त था और निर्देश दिया कि जांच उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के इंदिरापुरम पुलिस थाने से वापस ली जाए। न्यायाधीश ने 30 नवंबर को पारित अपने आदेश में कहा, ‘‘इस अदालत को यह दुर्भाग्यपूर्ण लगता है कि संस्थाएं जो आम नागरिकों के जीवन और स्वतंत्रता की रक्षा करने वाली हैं, वे अपनी जिम्मेदारियों से जल्दी भाग जाती हैं जो आम नागरिकों के विश्वास को कमजोर करता है।’’ 

प्रदूषण के बीच सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट जारी रहने पर मोदी सरकार ने कोर्ट में दिया हलफनामा

अदालत यौन उत्पीडऩ पीड़िता द्वारा दायर याचिका पर विचार कर रही थी, जिसमें जीटीबी एन्क्लेव पुलिस थाने द्वारा उसकी शिकायत की जांच करने और इंदिरापुरम पुलिस थाने से मामला वापस लेने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। याचिकाकर्ता की शिकायत थी कि दिल्ली पुलिस ने नियमित प्राथमिकी के बजाय उसकी शिकायत के आधार पर एक ‘जीरो’ प्राथमिकी दर्ज की और जांच उत्तर प्रदेश पुलिस को स्थानांतरित कर दी। एक पुलिस थाने द्वारा उस समय ‘जीरो’ प्राथमिकी दर्ज की जाती है जब कथित अपराध उसके अधिकार क्षेत्र में नहीं होता है और बाद में इसे उस पुलिस थाने में स्थानांतरित कर दिया जाता है जहां कथित अपराध हुआ होता है।  

SBI ने किसानों को ऋण देने के लिए अडाणी कैपिटल के साथ मिलाया हाथ

अभियोजन पक्ष ने इस आधार पर जीरो प्राथमिकी का बचाव किया कि उसकी चिकित्सा जांच के दौरान, याचिकाकर्ता ने सूचित किया था कि यौन उत्पीडऩ की अंतिम घटना कथित तौर पर इंदिरापुरम में हुई थी। उसने कहा कि याचिकाकर्ता ने जीटीबी एन्क्लेव पुलिस थाने के अधिकार क्षेत्र में कोई विशिष्ट पता या किसी स्थान की पहचान नहीं की, जहां कथित यौन उत्पीडऩ की घटना हुई थी या कथित घटना की कोई तारीख या समय निर्दिष्ट नहीं किया था। 

कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने दी भारत में दस्तक, केजरीवाल ने जताया अफसोस

अदालत ने कहा कि यह देखा गया कि एक नियमित प्राथमिकी दर्ज करने में विफल रहने पर कीमती समय खराब होता है, जिसका उपयोग जांच करने में किया जा सकता है, और इसके परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण सबूत नष्ट हो सकते हैं। न्यायाधीश ने कहा कि जीटीबी एन्क्लेव पुलिस थाने के आसपास की घटनाओं में से एक घटना का सामने आना ही प्राथमिकी दर्ज करने के लिए पर्याप्त है। अदालत ने आदेश दिया कि जीटीबी एन्क्लेव पुलिस थाने द्वारा एक नियमित प्राथमिकी दर्ज की जाए और गाजियाबाद पुलिस के बजाय दिल्ली पुलिस द्वारा तदनुसार जांच की जाए। 

BJP में शामिल हुए सिरसा पर अकाली दल ने बोला हमला, कहा- खालसा पंथ के साथ किया विश्वासघात

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.