Wednesday, Oct 16, 2019
sexual harassment of law student akhil bharatiya akhada prishad support swami chinmayananda

यौन शोषण के आरोपी चिन्मयानंद के समर्थन में आया अखाडा परिषद

  • Updated on 10/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कानून की एक छात्रा के कथित यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के समर्थन में सामने आते हुए साधु संतों की शीर्ष संस्था अखिल भारतीय अखाडा परिषद ने बृहस्पतिवार को कहा कि उन्हें इस मामले में फंसाया गया है।

दिल्ली महिला आयोग ने स्पा सेंटरों में सेक्स रैकेट रोकने के लिए दिए अहम सुझाव

कनखल स्थित बडा अखाडा में सभी 13 अखाडों की बैठक में साधु—संतों एवं अखाडों के प्रतिनिधियों के सर्वसम्मति से अखाडा परिषद की वर्तमान कार्यकारिणी को पुन: पांच वर्ष के लिये चुने जाने के बाद अखाडा परिषद के अध्यक्ष स्वामी नरेंद्र गिरि ने कहा कि अखाडा परिषद स्वामी चिन्मयानंद के साथ है। 

राज बब्बर की जगह लल्लू को मिली उत्तर प्रदेश कांग्रेस की कमान

महंत नरेंद्र गिरि ने पत्रकारों से कहा, ‘स्वामी चिन्मयानंद के साथ बडी साजिश और षडयंत्र कर उन्हें यौन शोषण मामले में फंसाया गया है। अखाडा परिषद स्वामी चिन्मयानंद के साथ है।‘ इस मसले पर अखाडा परिषद का यह रूख उसके द्वारा पहले जाहिर किये गये रूख से बिल्कुल उलटा है। इससे पहले, 21 सितंबर को अपने बयान में अखाडा परिषद ने पूर्व केंद्रीय मंत्री पर कानून की छात्रा द्वारा लगाये गये आरोपों को ‘शर्मनाक’ बताया था। 

चिदंबरम, कार्ति की अग्रिम जमानत को ED ने दी हाई कोर्ट में चुनौती

बैठक में संतों की लंबे समय से भू समाधि हेतु भूमि देने की मांग भी उठी । संतों ने गंगा को प्रदूषण से बचाने के लिए ब्रहमलीन :दिवंगत: संतों हेतु भू समाधि देने के लिये भूमि की मांग की । यह मामला उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के साथ 12 अक्टूबर को होने वाली बैठक में भी उठने की संभावना है। अखाडा परिषद के अध्यक्ष स्वामी नरेंद्र गिरि ने कहा कि स्वामी चिन्मयानंद के साथ है । उन्होंने आवाहन सहित अन्य अखाडों को कुंभ मेला क्षेत्र में भूमि आवंटित करने की भी मांग की। 

योगी सरकार में सरकारी गौशाला में 22 गोवंशीय पशुओं की मौत, 54 बीमार

उन्होंने बिग बॉस के प्रसारण पर तत्काल रोक लगाने की मांग करते हुए कहा कि उसका प्रस्तुतिकरण भारतीय संस्कृति के अनुकूल नहीं है। अखाडा परिषद के महामंत्री स्वामी हरि गिरी महाराज ने कहा कि कुंभ मेला 2021 के स्थायी प्रकृति के कार्यों में कब तेजी आयेगी। उन्होंने उम्मीद जतायी कि मेला प्रशासन, सडकों, पुलों, राष्ट्रीय राजमार्ग आदि के निर्माणों में प्राथमिकता दे। 

अर्थशास्त्रियों ने जताई अमेरिकी आर्थिक वृद्धि दर में तेज गिरावट की आशंका

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.