Wednesday, Mar 20, 2019

भारत में अश्लीलता परोस रही हैं सोशल नेटवर्किंग साइट, टिक टॉक सबसे आगे

  • Updated on 3/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के अश्लील पोस्ट व वीडियोज पर चल रही खबरें काफी चिंताजनक हैं। सोशल मीडिया पर बढ़ती हुई आपत्तिजनक पोस्ट्स का प्रमुख कारण है की विदेशी मंच हमारी भारतीय परम्पराओं और मूल्यों का सम्मान करने के बजाय अपने मुनाफे पर ही केंद्रित रहेंगे।

यह काफी महत्वपूर्ण हो गया है कि हमारे समाज व संस्कृति को दूषित करने वाले ऐसे प्लेटफॉर्म्स को बढ़ावा न दिया जाए। साथ ही साथ यह भी जरूरी है की हम सोशल नेटवर्किंग के लिए कोई भारतीय विकल्प चुनें। आज कल इंस्टाग्राम, टिकटॉक और हेलो जैसे प्लैटफॉर्म्स को मॉर्फ्ड (नकली) तस्वीरों की भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। लोग कंप्यूटर की मदद से तस्वीरें बदल कर अश्लील पोस्ट बना देते हैं। 

केजरीवाल का आरोप, मोदी सरकार ने नीरव और विजय माल्या को देश से भागने दिया

क्योंकि ऐसे मंच हमारे दैनिक जीवन का एक प्रमुख हिस्सा बन गए हैं, जहां पूरे भारत और सभी आयु समूहों के यूज़र्स इन प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से अपनी फोटो और वीडियो अपलोड करते हैं, इन प्लेटफॉर्म की यह जिम्मेदारी बन जाती है कि गलत व अश्लील वीडियो अपलोड न हों। लेकिन अफसोस की बात है की ऐसे कॉन्टेंट को हटाने के बजाय, ये प्लेटफॉर्म अश्लील कॉन्टेंट के बारे में कुछ नहीं करना चाहते हैं। 

विदेशी प्लेटफॉर्म्स से कहीं बेहतर भारतीय विकल्प  
विदेशी कम्पनी हिंदुस्तान में प्रवेश करती हैं और हमें उनके कंटेंट का आदी बनाती हैं। ऐसा करने के बाद, ये कंपनियां हमारी परंपराओं और मूल्यों पर हमला करती हैं। इसी कारण से हमें सिर्फ अपने देश और देश की कम्पनियो का समर्थन करना चाहिए। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की दुनिया में कई भारतीय विकल्प हैं। शेयरचैट और रोपोसो जैसे प्लेटफॉर्म न केवल भारतीय सोशल प्लेटफॉर्म हैं बल्कि ये विदेशी प्लेटफॉर्म्स के कहीं बेहतर विकल्प हैं।

भारतीय कंपनियां न केवल भारतीय मूल्यों को समझती व उनपे गर्व करती हैं, बल्कि वे भारत की विभिन्न भाषाओं का भी सम्मान करती हैं। रोपोसो पर जो भी वीडियो अपलोड किया जाता है, उसे पहले अश्लीलता के लिए मशीन द्वारा चेक किया जाता है। इसके बाद, इस ऐप के विभिन्न भाषा एक्सपर्ट यह तय करते हैं कि किस वीडियो को किस केटेगरी या चैनल (जैसे की म्यूजिक, स्पोर्ट्स, न्यूज, भक्ति, आदि) पर दिखाया जाना चाहिए। 

एनआईए ने मीरवाइज, गिलानी के बेटे को पूछताछ के लिए बुलाया दिल्ली

इस प्रकार से एक बार फिर ये देखा जाता है की विडिओ में कुछ अश्लील तो नहीं। इस सख्त प्रारूप के बाद भी, रोपोसो यूजर्स को किसी भी वीडिओ को अनुपयुक्त चिह्नित करने के लिए एक बटन दिया जाता है। रोपोसो, अपने यूजर्स द्वारा मार्क किये गए कॉन्टेंट को फिर देखता है और अश्लीलता पाए जाने पर ऐसी वीडियो को हटा देता है। रोपोसो अपने मोबाइल ऐप पर अपने यूजर्स को साफ और रचनात्मक वीडियो प्रदान करने के लिए ऐसा करता है।

भारतीय यूजर्स की समस्याओं के बारे में बात करते हुए, रोपोसो के सीईओ और को-फाउंडर मयंक भंगडिया ने कहा, इन विदेशी खिलाड़ियों के बुरे प्रभाव को महसूस किए बिना यूजर्स इन सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के काफी आदी हो रहे हैं। इसका सबसे बड़ा दुष्प्रभाव बच्चों व महिलाओं पर पड़ रहा है और वो अश्लीलता का टारगेट बन रहे हैं। 

राहुल ने PM मोदी से पूछा, जैश-ए-मोहम्मद का प्रमुख कौन, उसे किसने रिहा किया?

हमारा देश हमें मूल्यों का सम्मान करना और हमारे बुजुर्गों, बच्चों व महिलाओं का सम्मान करना सिखाता है, और यह बात विदेशी कंपनियां नहीं समझ पाती हैं। हम अपने यूजर्स को एक स्वच्छ मंच प्रदान करते हैं जिसमें कोई पॉर्न शामिल नहीं होता। एक बार फिर से विदेशी छोड़कर देसी अपनाने का समय आ गया है, जो की हमारे देश के हित में है। अब यह हमें तय करना है कि हमारे व हमारे बच्चों के लिए अच्छा क्या है - भारत के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म या अश्लीलता फैलाने वाले विदेशी वीडियो प्लेटफॉर्म।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.