Wednesday, Jun 26, 2019

घोर कलयुग: बेटे ने अपने ही पिता की हत्या कर लाश को 50 टुकड़ों में काटा

  • Updated on 5/22/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पिता और पुत्र के रिश्तों को शर्मसार करने का सनसनीखेज मामला एक बार फिर देश की राजधानी में देखने को मिला है। यहां शाहदरा इलाके में एक बेटे ने संपत्ति की खातिर अपने पिता की हत्या की फिर उनकी लाश के 50 टुकड़े कर डाले और शव के टुकड़ों को चार अलग-अलग बैगों में भरकर ले जा रहा था, लेकिन घर के बाहर ही उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मामले का खुलासे होने पर पुलिस प्रशासन के साथ स्थानीय लोगों में भी हड़कंप मच गया है।

आरोपी अमन ने अपने एक मित्र के साथ मिलकर जायदाद हासिल करने के लिए पिता संदेश अग्रवाल के शरीर के टुकड़े-टुकड़े करके बैग में भरकर ठिकाने लगाने जा रहा था, तभी पुलिस ने उसे मौके पर ही दबोच लिया। गिरफ्तार आरोपी की पहचान अमन अग्रवाल के रूप में हुई है। पुलिस ने मृतक संदेश अग्रवाल के शव के टुकड़ों को जमा करके पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। बताया जा रहा है कि अमन के पिता के शव के 50 टुकड़े किए जिससे वह आसानी से उन्हें ठिकाने लगा सके।

दिल्ली में दरिंदगी : प्रॉपर्टी के लिए पिता को मार डाला, फिर कर दिए शव के 50 टुकड़े

पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया, संदेश अग्रवाल 522 बड़ा बाजार शाहदरा में रहते थे। उनकी इस इलाके में ही कॉस्मेटिक के सामान की दुकान है। परिवार में पत्नी दो बेटे व एक बेटी है। वारदात के पीछे का विवाद संपत्ति है। पता चला है कि बेटे अमन पिता की दुकान को हड़पना चाहता था और साइबर नेट का काम खोलना चाहता था। संदेश दुकान पर सामान बेचकर घर का खर्च चलाते थे। मृतक के भाई ने बताया कि अमन ने एक महीने पहले दुकान न देने पर पिता को जान से मारने की धमकी भी दी थी। 

उन्होने आरोप लगाया है कि मृतक का पूरा परिवार इस घटनाक्रम में शामिल हैं। आए दिन संपत्ति को संदेश को उनका परिवार परेशान करते थे। कोर्ट में संपत्ति का केस चल रहा है। हालांकि आधी संपत्ति पहले ही मृतक ने अपनी पत्नी और बच्चों के नाम कर दी थी परन्तु इसके बाद भी अपनी आजीविका चलाने के लिए मृतक की बची हुई दुकान भी हड़पना चाहते थे। जिसे वो देने के पक्ष में नहीं थे।

बता दें  पूरे हत्याकांड को बेहद सोची-समझी साजिश के तहत अंजाम दिया गया है। मृतक के अन्य परिजनों की मानें तो घटना से पहले पत्नी, छोटा बेटा और बेटी घूमने के बहाने घर से बाहर चले गए थे ताकि बड़ा बेटा इस पूरे घटनाक्रम को अंजाम दे सके।

मृतक के परिजनों ने शंका जताते हुए कहा कि इस घटनाक्रम को सोमवार रात ही अंजाम दे दिया गया है, क्योंकि मंगलवार सुबह से मर्तक ढूंढ़ने पर भी कहीं नजर नहीं आए थे। आसपास सब जगह पता करने पर भी उनका कोई पता नहीं चला और बेटे की संदिग्ध गतिविधियों के चलते उन्हें उनके अमन पर शक हुआ।
मंगलवार रात जब अमन ने अपने दोस्त को गाड़ी लेकर बुलाया और लाश के टुकड़ों से भरा बैग रखने लगा तो परिजनों ने रंगे हाथों ही उसे पकड़ लिया और तुरंत मामले की सूचना पुलिस को सूचना दी । जिसके बाद पुलिस ने अमन और उसके दोस्त को गिरफ्तार कर लिया है और गाड़ी को कब्जे में ले लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.