Monday, Nov 18, 2019
special cell police caught smuggler with seven lakh fake notes

स्पेशल सेल की टीम ने सात लाख नकली नोटों के साथ तस्कर को दबोचा, इस रास्ते से करते थे सप्लाई

  • Updated on 11/8/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पहले पाकिस्तान के रास्ते भारत में नकली नोटों की सप्लाई की जाती थी, लेकिन जब से पाक पर नकेल कसी गई तो तस्करों ने बांग्लादेश का रास्ता चुन लिया। अब वह बांग्लादेश वाया मालदा होते हुए देश में नकली नोटों की सप्लाई कर रहे हैं, लेकिन स्पेशल सेल की टीम ने एक बार फिर इन नकली नोटों की सप्लाई करने वाले इंटरनेशनल गिरोह का भंडाफोड़ कर प्रमुख तस्कर को गिरफ्तार किया है।

अब बांग्लादेश के रास्ते करने लगे नकली नोटों की सप्लाई
गिरफ्तार तस्करों के पास सात लाख के नकली नोट बरामद हुए हैं। बरामद नोट 2000 और 500 के नोट हैं। गिरफ्तार तस्करों की पहचान मालदा निवासी अमर मंडल (28) के रूप में हुई है। स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा ने बताया कि भारत-बांग्लादेश सीमाओं से भारत में नकली नोटों की सप्लाई करने की सूचना थी। इससे पहले भी सेल की टीम तस्करों की धरपकड़ कर रही है। इन तस्करों की धर-पकड़ के लिए स्पेशल सेल के एसीपी

बरामद नकली नोट दो हजार व पांच सौ के हैं  
अत्तर सिंह के देखरेख व इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह के नेतृत्व में टीम बनाई गई। टीम ने इस गिरोह के बारे में जानकारी इकट्ठा की। चार महीने के मेहनत के बाद सेल की टीम को सूचना मिली कि पांच नवम्बर को गिरेाह का प्रमुख सदस्य अमर मंडल ओखला सब्जी मंडी कैप्टन गौड़ मार्ग पर नकली नोटों का एक बड़ी खेप लेकर आने वाला है। सूचना के बाद पुलिस ने ट्रैप लगा उसे धर दबोचा। 

नोट बंदी के बाद दो सालों तक लग गया था विराम
पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वर्ष 2016 में नोट बंदी के बाद बांग्लादेश और पाकिस्तान से नकली नोटों के तस्करी पर विराम लग था, लेकिन पिछले दो सालों से यह सिंडिकेट फिर से सक्रिय हो गया है और तस्करी करने लगे। पिछले एक साल के दौरान यह लोग एक करोड़ से अधिक पहले ही एक करोड़ रुपए से अधिक की सप्लाई कर चुका है।

दो हजार के 303 और पांच सौ के 188 नकली नोट बरामद
पुलिस ने तस्कर को पकडऩे के बाद जांच की तो उसके पास से दो हजार के करीब 303 और पांच सौ के 188 नकली नोट बरामद हुए। दो हजार वाले की कीमत करीब 6.06 लाख और पांच सौ के नकली नोटों की कीमत 94 हजार है। पूछताछ से पता चला है कि वह जिले के एक आइजुल मियां से नकली नोट लेता था। उसके बाद वह सहयोगियों की मदद से बिहार, दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश में नकली नोटों की सप्लाई करता था। पिछले 3 सालों से वह इस धंधे में लगा हुआ है। उसने बताया कि यह नकली नोट भारत-बांग्लादेश सीमा के रास्ते भारत में लाया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.