Tuesday, Nov 29, 2022
-->
swati-maliwal-attacks-actor-alok-nath-over-vinta-nanda-charged-with-rape

मालीवाल ने आलोक नाथ को लिया आड़े हाथ, नंदा ने लगाया था दुष्कर्म का आरोप

  • Updated on 10/9/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने मंगलवार को कहा कि अभिनेता आलोक नाथ पर लगे यौन उत्पीडऩ के आरोपों पर उनका ‘लापरवाह’ रवैया उस पुरुषवादी मानसिकता को दर्शाता है जो यह मानता है कि वे आसानी से बच निकलेंगे।

गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हमले को लेकर PM मोदी के खिलाफ फूटा गुस्सा

मालीवाल ने मीडिया में आई उन रिपोर्टों का हवाला दिया जिनमें नाथ ने कहा, 'न मैं इससे इनकार कर रहा हूं और न मैं यह स्वीकार कर रहा हूं। यह (बलात्कार) हुआ होगा, लेकिन किसी और ने यह किया होगा। मैं इस बारे में अधिक बात नहीं करना चाहता हूं। जहां तक मामले का संबंध है अगर यह सामने आया है, तो इसे खींचा जाएगा।'

तनुश्री के समर्थन में उतरीं अनुष्का, कहा- सच बोलने के लिए चाहिए साहस

उन्होंने कथित रूप से कहा, 'हमें सिर्फ महिलाओं का पक्ष सुनना है क्योंकि उन्हें कमजोर माना जाता है।' वह लेखिका-निर्माता विन्ता नंदा द्वारा 19 साल पहले उनका बलात्कार करने के आरोप पर प्रतिक्रिया दे रहे थे। मालीवाल ने कहा, 'ऐसे गंभीर आरोपों के जवाब में आलोक नाथ का लापरवाह रवैया पुरूषों की मानसिकता को दिखाता है जो यह मानती है कि वे आसानी से बच निकलेंगे।'

महिला आयोग की अध्यक्ष ने कहा कि शिकायतकर्ता को इस मामले में आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिए। मीट टू अभियान का समर्थन करते हुए मालीवाल ने कहा, 'आखिरकार महिलाएं अपने आरोपियों पर प्रहार कर रही हैं और यह बहुत स्वागत योग्य कदम है।'

अमिताभ बच्चन से उलट ऐश्वर्या ने किया #MeToo अभियान का समर्थन

मुझे कोई डर नहीं है :  विन्ता नंदा  
अभिनेता आलोक नाथ पर बलात्कार और उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली लेखिका-निर्देशक विन्ता नंदा ने कहा है कि इस कथित घटना को सार्वजनिक करने में उन्हें 20 साल लग गए क्योंकि शुरू में उन्हें लगता था कि ‘‘गलती’’ उनकी ही थी। नंदा ने कहा कि वह लंबे समय तक यह सोचती रही कि जो उनके साथ हुआ, वह ‘‘उचित’’ था और जब उन्होंने इस घटना के बारे में मुंह खोलने का फैसला किया तो आसपास के लोगों ने उन्हें चुप रहने की सलाह दी।

#MeToo पर बोले BJP सांसद उदित राज, कहा- गलत प्रथा को दिया जा रहा बढ़ावा

नंदा ने मुंबई में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'खुलासा करने में लंबा समय लगा। लंबे समय तक मैं सोचती रही कि यह मेरी गलती थी। मैं उस पार्टी में क्यों गई और मैंने क्यों वह पेय पीया? मैं इतनी बोल्ड क्यों हूं, मैं इतना क्यूं बोलती हूं? मैं पुरूषों से क्यों बातचीत करती हूं?'

उन्होंने कहा, 'इसलिए मैंने सोचा कि मेरे साथ जो हुआ, वह उचित था। जब परेशानी काफी गंभीर हो गयी और मैं उसे बर्दाश्त नहीं कर पायी तो मैंने इसकी चर्चा की। लेकिन आसपास के लोगों ने मुझसे कहा, ‘तुम पागल हो, चुप रहो, इसे भूल जाओ।’ पुलिस में जाने का मतलब स्थिति को और जटिल बनाना था।'
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.