Monday, Nov 29, 2021
-->
the-family-was-ruined-first-the-child-now-the-mother-also-died

परिवार उजड़ा,पहले बच्ची अब मां भी मरी

  • Updated on 9/14/2021

  
 
 
नई दिल्ली। टीम डिजिटल। स्वरूप नगर इलाके में बीते रविवार रात को जब एक महिला अपनेे दस महीने के बच्चे को गोद में लेकर और दस साल की बच्ची को लेकर दवाई लेने जा रही थी। अचानक एक मकान का छज्जे गिरने से तीनों उसकी चपेट में आ गए थे। तीनों को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों ने दस महीने की बच्ची नक्ष को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था। जबकि महिला और उसकी बच्ची की हालत गंभीर बताई थी।

मंगलवार रात को डॉक्टरों ने महिला को भी मृत घोषित कर दिया। महिला के शव को पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने परिवार को सौंप दिया। घटना के बाद इलाके के लोगों में जिस मकान का छज्जा गिरा,उसके मकान मालिक को लेकर काफी रोष है। क्योंकि उसके किरायेदार ने उससे कई बार कहा था कि कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। लेकिन उसने उसकी एक नहीं सूनी थी। आरोपी मकान मालिक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपी की पहचान रणबीर राणा के रूप में हुई। 


पुलिस अधिकारियों ने बताया कि महिला की पहचान आंचल(20) के रूप में हुई है। वह परिवार के साथ डी ब्लॉक में अपने पति चेतन के साथ रहती थी। दोनों की पिछले साल ही शादी हुई थी। चेतन प्राईवेट नौकरी करता है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बीते रविवार रात सवा आठ बजे डी ब्लॉ शिव मेडिकॉज स्टोर वाली गली में छज्जा गिरने से महिला और उसके बच्चे चपेट में आने की जानकारी मिली थी। पुलिस मौके पर पहुंची।

पता चला कि महिला और उसके बच्चों को एंबुलेंस से ट्रॉमा सेंटर भेजा जा चुका है। घायलों की पहचान महिला आंचल(20)उसका दस महीने का बेटा नक्ष और दस साल की नंद शिडी के रूप में हुई। पुलिस ने मामला दर्ज किया,उसी रात को नक्ष को डॉक्टरों ने मृतक घोषित कर दिया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया। पुलिस ने संदीप कुमार नामक युवक की शिकायत पर मकान मालिक के खिलाफ मामला दर्ज कर उसके गिरफ्तार कर लिया। नक्ष की मौत के बाद उसकी मां आंचल काफी सदमें थी। उसकी तबीयत बिगड़ रही थी।

मंगलवार रात को डॉक्टरों ने आंचल को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि शिकायतकर्ता संदीप कुमार सेे पुलिस को पता चला था। वह रणबीर राणा के मकान में तीन साल से किराए के मकान पर रह रहा था। संदीप ने रणबीर से मकान की जर्जर हालत के बारे में कई बार कहा था। लेकिन रणबीर ने उसकी बातों को गंभीरता से नहीं लिया था। रणबीर जब भी किराया लेने आता था। उसको जर्जर छज्जे को दिखाकर बताते थे कि कभी कोई राहगीर इसकी चपेट में आ सकता है।

रणबीर बोलता था,सब सही है,तुम्हारे कहने से ठीक नहीं कराऊंगा। रविवार को काफी बारिश हो रही थी। शाम सवा आठ बजे घर के छज्जे पर बना बाथरूम अचानक छज्जे समेत गिर गया। उसी बीच आंचल अपने बेटे नक्ष की दवाई लेने के लिए वहीं से मेडिकॉज के पास जा रही थी। तीनों उसकी चपेट में आ गए थे। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.