Saturday, Mar 25, 2023
-->

निठारी कांडः 8वें मर्डर केस में मनिंदर सिंह पंढेर, कोली दोषी करार, सजा पर फैसला 24 जुलाई को

  • Updated on 7/24/2017

 

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। नोएडा के एक बहुत ही प्रसिद्ध निठारी कांड में आरोपी रहे मनिंदर सिंह पंदेर और सुरेंद्र काली को दोषी पाया है। वहीं , गाजियाबाद की स्पेशल सीबीआई  कोर्ट ने पिंकी सरकार हत्याकांड में पंदेर और सुरेंद्र कोली को करार दिया है। जिसके चलते अब 24 जुलाई को इस मामले में सजा सुनाई दी जानी है। 

क्रिकेटर परविंदर पर भाटी गैंग का हमला, फैब्रीकेटर से मारपीट करके भाग रहे थे पांच बदमाश

आपको बता दें कि  कोर्ट ने कोली को इस मामले में 5 अक्टूबर को दोषी करार दिया था। पूर्व में सीबीआई कोर्ट निठारी कांड के पांच मामलों में भी कोली को मृत्युदंड की सजा सुना चुकी है। निठारी में रहने वाली एक 25 वर्षीय महिला नंदा देवी 31 अक्टूबर 2006 को अपने पति को घर पर यह कहकर निकली थी कि उसे कोली ने कोठी में झाडू-पोछे के लिए बुलाया है, मगर वह वापस नहीं लौटी।

उसके पति ने उसे संभावित स्थानों पर तलाशा, पर कुछ पता नहीं चला। अगले दिन महिला का पति नोएडा के थाना सेक्टर-20 स्थित निठारी पुलिस चौकी पर गुमशुदगी लिखवाने पहुंचा तो दरोगा सिमरनजीत कौर ने गुमशुदगी नहीं लिखी थी। 5 अक्टूबर को सीबीआई कोर्ट के न्यायाधीश पवन तिवारी ने सुनवाई के बाद कोली को दोषी करार दिया था।

यह है निठारी मामला 

निठारी से एक के बाद एक बच्चे और महिलाओं के लापता होने की सूचना पर नोएडा में तैनात रहे डिप्टी एसपी दिनेश यादव के निर्देशन में पुलिस ने 29 दिसंूर 2006 को निठारी कांड का खुलासा करते हुए सुरेंद्र कोली और मोनिंदर सिंह पंधेर को गिरफ्तार किया था।

पूछताछ के दौरान कोली ने महिला और बच्चों की हत्या का जुर्म कबूला था। पुलिस ने नोएडा सेक्टर 31 स्थित मोनिंदर सिंह पंधेर की कोठी से बच्चों के कपड़े, जूते, चप्पल और कोठी के पीछे नाले से बच्चों के कंकाल और हड्डी बरामद की थी।

नोएडा में कांवड़ियों की वजह से मीट की दुकानें हुई बंद!

सीबीआई ने कोली के खिलाफ 19 केस रजिस्टर्ड किए थे। साक्ष्य नहीं मिलने पर तीन केसों में सीबीआई ने क्लोजर रिपोर्ट लगाकर केस बंद कर दिए थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.