Thursday, Apr 09, 2020
the mastermind of rape and murder of nirbhaya hiding here

निर्भया के दोषी फांसी पर लटके, मगर ये नाबालिग था दरिंदगी का मास्टरमाइंड, छुपा है यहां...

  • Updated on 3/20/2020

नई दिल्ली /टीम डिजिटल। सात सालों के इंतजार के बाद निर्भया (nirbhaya) के चारों हत्यारों को फांसी (fansi) दी जा चुकी है। मगर आप जानते हैं कि इस दरिंदगी का मास्टरमाइंड ही कानून के सहारे साफ बच चुका है और अब खुद पुलिस की निगरानी में चैन की जिंदगी बिता रहा है। यहां तक कि पुलिस और प्रशासन उसकी जान बचाने के लिए कई बार उसकी पहचान भी बदलती रहती है और उसे एक से दूसरे शहर में ले जाकर छुपा देती है। सभी दोषियों ने अलग-अलग पूछताछ में बताया था कि सारे अपराध का सूत्रधार ये नाबालिग युवक (minor) ही था। इसी ने युवती को दीदी कहकर बुलाया था और बस में बैठने के लिए कहा था।

कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला, निर्भया फंड का नहीं हुआ इस्तेमाल

सबसे ज्यादा क्रूर था नाबालिग दरिंदा
सात सालों के बाद चार आरोपियों को फांसी दी गई है, मगर निर्भया को शायद अभी इंसाफ नहीं मिला है। निर्भया के साथ दरिंदगी करने वालों में छह लोग शामिल थे। राम सिंह, विनय, पवन, मुकेश और अक्षय के अलावा एक अन्य छठा आरोपी भी था जो नाबालिग था। राम सिंह ने जेल में एक साल के अंदर ही 2013 में फांसी लगा ली थी। मगर निर्भया के साथ दरिंदगी के मास्टरमाइंड को जुविनाइल कोर्ट ने साफ बरी कर दिया है। दरअसल जेल भेजने के बाद एक आरोपी ने दावा किया था कि वो नाबालिग है। उसके मिले कागजों से भी ये बात साबित हो गई थी। कुछ वक्त बाल सुधार गृह में रखने के बाद 2016 में अदालत ने उसे रिहा कर दिया।

निर्भया के दोषियों को फांसी दिए जाने पर बोले PM मोदी, इंसाफ हुआ 

कत्ल के बाद खुद को साबित कर दिया नाबालिग
जांच अधिकारियों ने बताया था कि छठे नाबालिग दोषी ने ही निर्भया को दीदी कहकर बुलाया था और इसी ने बाकी पांचों लोगों को गैंगरेप के लिए उकसाया था। निर्भया पर सबसे ज्यादा दरिंदगी भी इसी ने दिखाई ती। बेरहमी से रेप के बाद उसने लोहे की जंग लगी रॉड से निर्भया को बुरी तरह मारा और उसकी आंते तक बाहर निकाल दी। कई बार ऑपरेशन के बाद भी निर्भया को बचाया नहीं जा सका और आखिरकार डॉक्टरों को उसकी आंतें ही काटकर बाहर निकालनी पड़ीं। पूरे शरीर में संक्रमण फैलने के बाद उसे इलाज के लिए सिंगापुर तक ले जाया गय मगर से बचाया नहीं जा सका। वहीं खुद को नाबालिग साबित करके इस दरिंदगी के बाद भी इस अपराधी को कानून ने बरी कर दिया।

निर्भया को न्याय: केजरीवाल बोले 7 साल लग गए, आज सभी लें ये प्रतिज्ञा...

निर्भया की मौत के जिम्मेदार इसी दरिंदे ने दिए थे जानलेवा जख्म
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने खुद उसे रिहा करते हुए एक सिलाई मशीन देकर नई जिंदगी बिताने की नसीहत दी थी। उस वक्त सीएम पर ये भी आरोप लगाए गए थे कि दोषी युवक अल्पसंख्यक समुदाय से ताल्लुक रखता था इसीलिए सियासत के चलते उसे छोड़ने के लिए खुद सीएम यहां तक आए थे। अदालत में बचाव वकील  ये भी दलील दी थी कि इस नाबालिग दोषी का कोई आपराधिक रिकॉर्ड भी नहीं रहा था। दरअसल, बस ड्राइवर पर उसके 8000 रुपये बकाया था। 16 दिसंबर, 2012 को भी वह अपने पैसे लेने ही गया था। मगर इस तथ्य को भी झुठलाया नहीं जा सकता कि दरिंदगी की रात निर्भया पर सबसे ज्‍यादा जुल्‍म इसी नाबालिग ने ढाए थे। निर्भया की मौत का सबसे बड़ा जिम्मेदार ये लड़का ही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.