Thursday, Jan 20, 2022
-->
the-murder-was-executed-by-calling-panipat-on-the-pretext-of-returning-the-loan-amount

उधार की रकम लौटने के बहाने पानीपत बुलाकर दिया था हत्या को अंजाम

  • Updated on 10/14/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।

क्राइम ब्रांच ने हत्या के मामले 2015 से फरार चल रहे आरोपी को पुलिस ने शिमला से गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपी ललित सहनी मूलरुप से मधुबनी, बिहार का रहने वाला है। उसने कर्ज के साढ़े तीन लाख रुपए देने से बचने के लिए कर्ज देने वाले को पानीपत बुलाकर उसकी हत्या कर दी थी। इस मामले में कोर्ट ने उसे भगोड़ा भी घोषित कर रखा था। पुलिस को अब इस केस में आरोपी के सहयोगी विजय और रंजीत राय की तलाश है।
क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने बताया कि जनवरी 2015 में विवेक विहार इलाके में रहने वाली एक महिला ने अपने पति नरेश सहनी का अपहरण कर लिए जाने का केस दर्ज कराया था। महिला ने अपने बयान में बताया था कि 26 जनवरी 2015 को उनके पति को विजय सहनी ने कॉल कर उनके पति से लिए हुए उधार ली गई रकम को वापस लौटाने का वादा किया। रुपये देने के लिए विजय ने पति को पानीपत बुलाया था। रुपये लेने के विजय पानीपत पहुंच गए थे, उन्होंने वहां पहुंच पत्नी को फोन बी किया था और कहा था कि देर रात तक लौट आएंगे। पर रात में उनका मोबाइल बंद हो गया। अगले दिन भी जब वह घर नहीं आए तो महिला ने पत्नी के पति के जानकार ललित से बात की और उसे बुलाया। लेकिन ललित नहीं आया और अपना मोबाइल बंद कर दिया। विजय सहनी का भी मोबाइल फोन स्वीच ऑफ मिला। जांच के दौरान पुलिस ने इस केस में पीलभीत यूपी निवासी रजनीश मिश्रा को गिरफ्तार किया था, जिसने पूछताछ में इस वारदात में ललित सहनी, विजय सहनी और रंजीत रॉय के साथ मिलकर पानीपत में नरेश सहनी की हत्या की बात स्वीकार ली। बताया वे उसके शव को राजनगर रेलवे स्टेशन नजदीक पानी में फेंक चुके हैं। मृतक का मोबाइल पुलिस ने रजनीश से ही बरामद किया। बाद में पुलिस को मृतक की केवल हड्डियां ही बरामद हुई। जिसके बाद इस केस में हत्या और सबूत मिटाने की धारा को भी शमिल कर लिया। इस केस में साल 2016 में कोर्ट ने आरोपी भाईयों विजय सहानी औ ललित सहनी को भगोडा घोषित कर दिया था।
आरोपी सदर बाजार में स्नैक कार्नर पर काम करता था। उसने और उसके भाई विजय ने नरेश सहनी से बहन की शादी के नाम पर साढ़े तीन लाख रुपए उधार लिए थे। जब नरेश ने अपनी रकम वापस करने को लेकर दबाव बनाया तो आरोपी ने अपने भाई विजय, रंजीत राय और रजनीश मिश्रा के साथ मिलकर उसकी हत्या करने की योजना बनाई। रुपये देने के बहाने उसे पानीपत बुलाया। यहां पहले उसके चाय में नशे की गोलियां मिला दीं। जब वह बेहोश हो गया तो उसके सिर को ईंट से कुचल कर उसकी हत्या कर दी। आरोपी शिमला में एक मीठाई की दुकान में काम करता था।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.