Wednesday, Jul 06, 2022
-->
the-trainee-officers-of-cbi-know-the-life-of-the-jail-the-team-reached-to-tour-the

सीबीआई के प्रशिक्षु अधिकारियों ने जाना जेल का जीवन, व्यवस्था का भ्रमण करने पहुंचा दल

  • Updated on 5/17/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। सीबीआई के प्रशिक्षु अधिकारियों ने मंगलवार को जिला कारागार का भ्रमण किया। इस दरम्यान जेल परिसर में विभिन्न व्यवस्थाओं का अवलोकन किया गया। बंदियों के रहन-सहन एवं काम-काज को भी देखा गया। प्रशिक्षु अधिकारियों ने जेल में सौंदर्यीकरण एवं फैली हरियाली की काफी प्रशंसा की। 

मुलाकात प्रक्रिया का जायजा
जेल अधीक्षक आलोक सिंह ने प्रतिनिधिमंडल को महत्वपूर्ण जानकारी दी। गाजियाबाद की डासना जेल का भ्रमण करने आए सीबीआई के प्रशिक्षु अधिकारियों ने अपना ज्ञानवर्धन भी किया। दल में पुरूष एवं महिला प्रशिक्षु अधिकारी शामिल थे। जेल में मुलाकात प्रक्रिया, कोर्ट समन, बंदियों की कोर्ट में पेशी तथा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेशी का अध्य्यन एवं अवलोकन किया। 

बैरकों में जाकर व्यवस्था देखी
इसके अलावा कारागार के महिला अहाते, प्रथम एवं द्वितीय चक्र, उच्च सुरक्षा वार्ड, हॉस्पिटल, पाकशाला, बंदी पीसीओ, बैरकों आदि का जायजा लिया गया। प्रशिक्षु अफसरों ने जेल परिसर में बंदियों के रहन-सहन, खान-पान, काम-काज तथा सुधार एवं पुनर्वास के लिए जारी प्रशिक्षण कार्यक्रमों की भी जानकारी ली। 

सौंदर्यीकरण-हरियाली की प्रशंसा
बंदियों के सुधार एवं पुनर्वास के मकसद से वहां कंप्यूटर प्रशिक्षण, प्रोढ़ शिक्षा, सिलाई प्रशिक्षण, गीत-संगीत, नृत्य, मास्क, पेंटिंग, आर्ट एंड क्राफ्ट एवं शिक्षण आदि कार्यक्रम संचालित हैं। कारागार में स्थापित आर्ट गैलरी, स्वच्छता, सौंदर्यीकरण एवं हरियाली की सीबीआई के प्रशिक्षु अधिकारियों ने जमकर प्रशंसा की। 

बंदियों से मुलाकात कर बातचीत की
कुछ बंदियों के साथ भी उन्होंने अलग-अलग मुद्दों पर बातचीत की। इस अवसर पर जेलर ब्रजेंद्र सिंह, डिप्टी जेलर अजय कुमार झा एवं शैलेश कुमार सिंह आदि मौजूद रहे। उधर, जेल अधीक्षक आलोक सिंह ने बताया कि डासना जेल में संचालित प्रशिक्षण कार्यक्रमों में बंदी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। 

विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित
प्रशिक्षण पूर्ण होने पर बंदियों को प्रमाण पत्र प्रदान किए जाते हैं। प्रशिक्षण का फायदा यह है कि जेल से रिहा होने के बाद बंदी स्व:रोजगार स्थापित कर अपनी एवं परिवार की आजीविका चला सकते हैं। इससे उनके जीवन में नया परिवर्तन आएगा। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.