Saturday, Jul 31, 2021
-->
toolkit case many suspects on police radar after climate activist disha ravi arrest sohsnt

टूलकिट मामला: दिशा रवि के बाद पुलिस की रडार पर कई संदिग्ध, पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे

  • Updated on 2/15/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) टूलकिट मामले में बेंगलुरू की एक 21 वर्षीय जलवायु कार्यकर्ता और फ्राइडे फॉर फ्यूचर इंडिया अभियान की संस्थापक दिशा रवि को गिरफ्तार कर लिया गया है। दिल्ली की एक अदालत ने क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा को 5 दिन की दिल्ली पुलिस की विशेष सेल की हिरासत में भेज दिया है। स्पेशल सेल के मुताबिक दिशा ने ही किसान आंदोलन से जुड़ी टूलकिट को एडिट किया था और उसे थनबर्ग को भेजा था। दिशा पर आरोप है कि वह देश के खिलाफ किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने की तैयारी में थी।

टूलकिट मामले में होनी हैं कई अन्य गिरफ्तारियां 
टूलकिट मामले की जांच कर रही टीम के अनुसार, दिशा रवि के अलावा अभी इस मामले में कई अन्य गिरफ्तारियां होनी हैं, जोकि इस मामले में एक बड़ा खुलासा कर सकती है। बता दें कि जब ग्रेटा थनबर्ग ने टूलकिट शेयर किया था, तब ग्रेटा को इस बात का अंदाजा नहीं था कि उसने इसे पब्लिक डोमेन में शेयर कर दिया है। ग्रेटा को ये जानकारी दिशा रवि ने दी थी। दिशा ने ही ग्रेट को बताया कि टूलकिट पब्लिक डोमेन में चला गया है, जिसके तुंरत बाद ग्रेटा ने इसे ट्विटर से डिलीट कर दिया।

दिशा रवि से पूछताछ जारी
फिलहाल, जांच टीम ने दिशा रवि का फोन जब्त कर लिया है, और आगे की पुछताछ कर रही है। इससे पहले पुलिस ने गूगल और अन्य सोशल मीडिया कंपनियों से टूलकिट को तैयार करने वाले से जुड़े ईमेल आईडी, डोमेन यूआरएल और अन्य जानकारी मांगी थी। दिशा रवि पर आरोप है कि उसने किसान आंदोलन से संबंधित टूलकिट को एडिट किया और उसे आगे फॉरवर्ड किया था। टूलकिट मामले को लेकर दिल्ली पुलिस का कहना है कि टूलकिट का मकसद भारत सरकार के खिलाफ साजिश रचना है। 

टूलकिट मामले में विभिन्न धाराओं में केस दर्ज
टूलकिट मामले को लेकर पुलिस ने आपराधिक साजिश, राजद्रोह और भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। दिल्ली पुलिस लाल किला हिंसा के साथ-साथ टूलकिट मामले की जांच भी तेजी से कर रही है, जिसके चलते बीते रविवार को पहली गिरफ्तारी हो गई है। ऐसी उम्मीद है कि जल्द ही इस मामले में अन्य गिरफ्तारियां भी होंगी।

टूलकिट के खालिस्तानी लिंक का खुलासा
बता दें कि यह टूलकिट खालिस्तानी समर्थक संगठन पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन के द्वारा बनाया गया है। इसमें किसान आंदोलन के दौरान क्या करना है, यह कहा गया है। इसमें कहा गया है कि 23 जनवरी से लगातार किसान आंदोलन को लेकर काफी ट्वीट करने हैं। 26 जनवरी को दिल्ली की सीमा के पास होने वाले मार्च में शिरकत करनी है और वापस सीमा पर आना है।

टूलकिट के लेखक के खिलाफ एफआईआर दर्ज
26 जनवरी के दिन ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई दिल्ली हिंसा के मामले की जांच के दौरान ग्रेटा थनबर्ग द्वारा टूलकिट को अपलोड करने की बात सामने आई थी, जिसके कुछ देर बाद ही ग्रेट ने टूलकिट वाले ट्वीट को डिलीट कर दिया। इससे पहले दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी क्राइम प्रवीर रंजन ने दिल्ली में 26 जनवरी के दिन हुई हिंसा को सुनियोजित साजिश भी बताया। साथ ही ये भी कहा कि एफआईआर टूलकिट के लेखक के खिलाफ दर्ज की गई है। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.