tried to go to america as an 80 year old old man team of cisf took hold at the airport

80 साल का बुड्ढा बनकर अमेरिका जाने की कर रहा था कोशिश, CISF की टीम ने एयरपोर्ट पर दबोचा

  • Updated on 9/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में भेस बदलकर झांसा देने का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दिल्ली के IGI एयरपोर्ट पर एक युवक को सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (CISF) के जवानों ने गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल ये युवक फर्जी पासपोर्ट बनाकर 81 साल के एक बुजुर्ग के भेस में अमेरिका जाने की फिराक में था।

तबरेज मॉबलिंचिंग: पुलिस ने कहा- कार्डियक अरेस्ट से हुई मौत, आरोपियों से हटाई हत्या की धारा

युवक ने 32 साल से 81 साल का बुजुर्ग दिखने के लिए सफेद दाढ़ी, सिर पर पगड़ी जैसा गमछा, सफेद कुर्ता, चेहरे पर भोले-भाले एक्सप्रेशन (Expression) आदि का सहारा लिया था। इतना ही नहीं किसी को उस पर शक ना हो इसलिए वह व्हिलचेयर (Wheelchair) के सहारे एयरपोर्ट पहुंचा। 

सरेआम शराब पी रहे पुलिसकर्मी का वीडियो वायरल, हुआ सस्पेंड

दरअसल जब जयेश वहां पहुंचा तो उसने एयरपोर्ट पर चेकिंग (Checking) करवाने से इनकार कर दिया। उसने उम्रदराज होने का हवाला देते हुए कहा कि उसकी उम्र (Age) बहुत अधिक होने की वजह से वो ज्यादा देर तक खड़ा नहीं हो सकता है। इसके बाद CISF के जवानों को बुजुर्ग आदमी’ की स्कीन (Skin) और बर्ताव थोड़ा अलग लगा और उस पर कुछ शक हुआ।

उन्नाव रेप केस: पीड़िता का बयान लेने AIIMS के अस्थाई कोर्ट पहुंचे न्यायाधीश

दरअसल CISF के एक जवान सब इंस्पेक्टर (Inspector) राजवीर सिंह ने देखा की वो ‘बुजुर्ग आदमी’ आई (Eye) कॉन्टैक्ट नहीं कर रहा है। इस पर उनको थोड़ा शक हुआ और फिर बुजुर्ग के पासपोर्ट (Passport) की चेकिंग की गई। जिसमें उसका नाम अमरीक सिंह लिखा है और उसका जन्म फरवरी, 1938 को हुआ था जिसके हिसाब से वो 81 साल का था। फिर जब पासपोर्ट पर लगी फोटो से युवक के चेहरे (Face) का मिलान किया गया तो फोटो (Photo) और सामने खड़े आदमी के चेहरे के रंग पर कुछ अंतर दिखा। जिससे अधिकारियों का शक बढ़ गया।

PUBG खेलने का विरोध करने पर अपने ही पिता को उतारा मौत के घाट

इसके बाद CISF के जवानों ने युवक को थोड़ा और ध्यान से ऑब्जर्व किया जिससे पता चला की ‘बुजुर्ग आदमी’ ने अपने बालों और दाढ़ी को सफेद रंग से रंगा है। इतना ही नहीं जो चश्मा उसने पहना था वो जीरो पावर अर्थात नकली था। इसके बाद युवक से कड़ी पूछताछ की गई जिसके बाद युवक ने अपनी असली पहचान बताते हुए कहा कि वो गुजरात के अहमदाबाद का है और उसका असली नाम जयेश पटेल है।

50 लाख के बीमा के लिए दे दी अपनी ही मौत की सुपारी 

आरोपी युवक जयेश ने कहा की वह किसी भी किमत पर अमेरिका जाना चाहता था लेकिन उसे वीजा ना मिलने का डर था। जिसकी वजह से उसने एक एजेंट मुलाकात की और उसने उसे सभी कागजात (Documents) उपलब्ध करवाए। इतना ही नहीं जयेश का मेकअप (Makeup) भी एजेंट (Agent) ने ही करवाया। एजेंट ने उसे दिल्ली के करोल बाग (Karol bagh) स्थित एक होटल (hotel) में मेकअप के लिए बुलाया और उसे व्हिलचेयर से जाने की सलाह भी दी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.