Monday, Aug 15, 2022
-->
used-to-cheat-on-the-pretext-of-redressal-of-people-s-insurance-complaints

लोगों के इश्योरेंस शिकायतों के निदान का झांसा देकर करते थे ठगी

  • Updated on 6/28/2022

द्वारका साइबर पुलिस ने किया फर्जी इंश्योरेंस एजेंसी का भंडाफोड़

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।


द्वारका जिला साइबर थाना पुलिस ने एक फर्जी इंश्योरेंस एजेंसी का भंडाफोड़ किया है, जिसके माध्यम से लोगों को फोन कर उन्हें इंश्योरेंस क्लेम का निपटारा करने और बेहतर रिटर्न का झांसा देकर ठगी किया करते थे। पुलिस ने एजेंसी को चला रहा एक महिला आशु व अमित शर्मा को गिरफ्तार किया गया है। इनके पास से लोगों को फोन करने में उपयोग दो मोबाइल, तीन सिम कार्ड और ठगे हुए 60 हजार रुपये नकद बरामद की है।
डीसीपी एम हर्षवर्धन ने बताया कि एक शख्स ने साइबर थाने में शिकायत दी थी, जिसमें बताया था कि उसने ईमेल के माध्यम से भारती एक्सा लाइफ इंश्योरेंस कंपनी को मार्च 2021 में ही उसके दो पॉलिसी का क्लेम न मिलने के संबंध में शिकायत की थी। कुछ दिनों पहले उन्हें खुद को कंपनी का ग्रीवांस ऑफिसर बताते हुए विकास श्रीवास्तव नामक शख्स ने फोन किया ता। बताया कि इंश्योरेंस पालिसी की रकम आपको एक सप्ताह के भीतर मिल जाएगी। इसके लिए कुछ जरूरी प्रक्रियाएं हैं, जिसे पूरा करना होगा। शिकायतकर्ता को विकास ने झांसे में लेकर चार्टर्ड अकाउंटेंट की फीस के तौर पर दो लाख 75 हजार 484 रुपये ले लिए। बाद में इंश्योरेंस का पैसा नहीं मिलने पर शिकायतकर्ता खुद को ठगा महसूस करने लगा। घटना की छानबीन के लिए एक टीम का गठन किया गया। जांच के दौरान पता चला कि जिस खाते में शिकायतकर्ता ने पैसे जमा किए थे वह प्रिंस यादव के नाम से है। इस खाते से कई लेनदेन राहुल पाल व आशु के खाते में होने की बात सामने आई। इसके बाद पुलिस ने महिला आशु को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आशु ने बताया कि अमित शर्मा उर्फ हर्ष भी इस मामले में संलिप्त है। आशु ने पुलिस को बताया कि उससे अमित शर्मा पैसे लेने के लिए आएगा। इसके बाद पुलिस ने अमित शर्मा को भी गिरफ्तार कर लिया। मामले में इस ठगी के रैकेट से जुड़े अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.