Wednesday, Oct 05, 2022
-->
used-to-make-people-a-victim-of-fraud-on-the-pretext-of-sending-them-abroad

लोगों को विदेश भेजने के बहाने बनाता था ठगी का शिकार

  • Updated on 8/17/2022

 आईजीआई एयरपोर्ट पुलिस ने अहमदाबाद से 1 एजेंट को किया गिरफ्तार
- कोविड महामारी के दौरान हुए घाटे के बाद करने लगा लोगों से ठगी

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।

आईजीआई एयरपोर्ट थाना पुलिस ने फर्जी वीजा दस्तावेज धरा विदेश भेजने वाले एक शातिर ठग को अहमदाबाद से गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी पहले टिकट एजेंट था। कोरोना महामारी के दौरान आर्थिक तंगी और घाटे से परेशान होकर उसने यह ठगी का धंधा शुरू कर दिया था। गत दिनों आरोपी के ठगी के शिकार चार यात्रियों को तुर्की से डीपोर्ट किया गया था, जिनके निशानदेही पर पुलिस ने जांच करते हुए विशाल बमराते नामक आरोपी को अहमदाबाद में छापेमारी कर गिरफ्तार किया है।
डीसीपी तनु शर्मा ने बताया कि 7 जुलाई को एयरपोर्ट इमिग्रेशन विभाग की शिकायत पर चार लोगों को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार हर्षद कुमार महेंद्रभाई पटेल, जतिन कनुभाई नई, दीक्षित कुमार मुकेशभाई पटेल और हितेश कुमार रोहित कुमार त्रिवेदी टर्किस एयरलाइन टीके 716 से डिपोर्ट कर दिल्ली भेजे गए थे।
सभी के खिलाफ मामला दर्ज कर पुलिस ने जब पूछताछ की तो पता चला कि नकली दस्तावेज के कारण उन्हे डीपोर्ट किया गया है। यह दस्तावेज उन्हें अहमदाबाद के एक एजेंट ने उपलब्ध कराए थे। जिसके आधार पर उन्होंने अहमदाबाद से दुबई और दुबई से ईरान की यात्रा की। ईरान से वे टर्की गए जहां उन्हें अधिकारियों ने पकड़ लिया और उन्हें वापस भेज दिया गया।

उनके बयान के आधार पर एसीपी विरेंद्र सिंह के निरीक्षण और एसएचओ यशपाल सिंह ने नेतृत्व में एसआई रीमा यादव और एचसी रॉबिन की टीम ने जांच शुरू की। जांच में पता चला कि आरोपी लोगों से केवल व्हाट्सएप से संपर्क करता था। उसके लिए अंतरराष्ट्रीय व्हाट्सएप नंबर रखा हुआ था। टीम ने इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस के माध्यम से आरोपी विशाल का अहमदाबाद का लोकेशन पता लगा उसके आवास के पास से ट्रैक कर दबोच लिया।

 पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह शुरू में गुजरात में टिकट एजेंट का काम करता था। बाद में उसने खुद की एजेंसी खोल यात्रियों के लिए मलेशिया, थाईलैंड और सिंगापुर के लिए टिकट और वीजा की व्यवस्था करना शुरू कर दिया। पर महामारी काम बंद हो गया। घाटे की भरपाई के लिए वह दुबई के एक एजेंट रूपेश पटेल उर्फ राजा भाई के संपर्क में आया। रूपेश के साथ मिलकर उसने लोगों को उकसा उन्हे  यूएसए में बसने में मदद का झांसा देकर ठगी करने लगा। वह पहले अपने शिकार को दुबई भेजता था, जहां से रूपेश उनकी आगे की यात्रा की व्यवस्था करता था। जाली दस्तावेजों के आधार वह भी यूएसए गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.