Wednesday, Sep 18, 2019
uttarakhand nine guilty including superintendent in nari niketan case

उत्तराखंड: नारी निकेतन कांड में अधीक्षिका समेत नौ दोषी करार

  • Updated on 8/31/2019

देहरादून/ब्यूरो। केदारपुरम स्थित नारी निकेतन में मूक बधिर संवासिनी से दुष्कर्म, गर्भपात कराने और भ्रूण को ठिकाने लगाने के आरोप में अदालत ने सभी नौ आरोपियों को दोषी करार दिया है। अपर जिला जज षष्ठम धर्म सिंह की अदालत सोमवार को सजा का ऐलान करेगी। दोषी करार दिए गए आरोपियों में तत्कालीन अधीक्षिका समेत छह महिलाएं शामिल है।

इस मोबाइल App से चल रहा जिस्मफरोशी का धंधा, मालीवाल ने IT मंत्रालय को भेजा नोटिस

अक्तूबर 2015 में नारी निकेतन में मूक बधिर संवासिनी के साथ दुष्कर्म का मामला प्रकाश में आया था। पुलिस ने तब नेहरू कॉलोनी थाने में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। 24 नवंबर 2015 को मुख्यमंत्री के आदेश पर तत्कालीन एसपी सिटी अजय सिंह के नेतृत्व में एक एसआईटी का गठन किया। एसआईटी की जांच में एक-एक कर सभी परतें खुलती चली गईं। संवासिनी पर जुल्म ढाने वाले सलाखों के पीछे जाते रहे।

'असम के बाद अब दिल्ली के लिए भी जल्द जारी करेंगे NRC लिस्ट'

पुलिस ने तत्कालीन अधीक्षिका मीनाक्षी पोखरियाल, कर्मचारी अनिता मंदोला, क्राफ्ट टीचर शमा निगार, चंद्रकला क्षेत्री, संविदाकर्मी कृष्णकांत उर्फ कांछा, होमगार्ड ललित बिष्ट, केयर टेकर हाशिम और मुख्य आरोपी सफाई कर्मचारी गुरदास को गिरफ्तार किया था। गुरदास पर आरोप था कि उसने संवासिनी से दुष्कर्म किया। इससे वह गर्भवती हो गई थी। जबकि, होमगार्ड ललित बिष्ट और केयर टेकर हाशिम ने भी संवासिनी से दुष्कर्म का प्रयास किया था। इस बात का कहीं पता न चले, इसके लिए बाकी सबने आपराधिक षड्यंत्र रचते हुए संवासिनी का गर्भपात कराया और भ्रूण को जंगल में दबा दिया।

इस AAP विधायक पर लगा महिला अधिकारी से बदसलूकी का आरोप, चार्जशीट दायर

एसआईटी जांच में दुधली के जंगल से भ्रूण भी बरामद कर लिया था। इसका डीएनए मिलान गुरदास के साथ हुआ जिससे केस को और मजबूती मिल गई। शासकीय अधिवक्ता संजीव सिसौदिया ने बताया कि अभियोजन की ओर से इस मुकदमे में कुल 23 गवाह पेश किए गए। जबकि, न्यायालय ने डीएनए रिपोर्ट को महत्वपूर्ण तथ्य माना। सभी पहलुओं पर गौर करते हुए सभी नौ आरोपियों को दोषी करार दे दिया। सिसौदिया ने बताया कि सजा के प्रश्न पर सोमवार को बहस की जाएगी। सभी दोषियों को न्यायालय परिसर से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.