Thursday, Sep 24, 2020

Live Updates: Unlock 4- Day 24

Last Updated: Thu Sep 24 2020 02:51 PM

corona virus

Total Cases

5,737,197

Recovered

4,674,346

Deaths

91,204

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA1,263,799
  • ANDHRA PRADESH646,530
  • TAMIL NADU557,999
  • KARNATAKA540,847
  • UTTAR PRADESH369,686
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • NEW DELHI256,789
  • WEST BENGAL234,673
  • ODISHA196,888
  • BIHAR180,788
  • TELANGANA179,246
  • ASSAM163,491
  • KERALA148,134
  • GUJARAT127,541
  • RAJASTHAN120,739
  • HARYANA116,856
  • MADHYA PRADESH113,057
  • PUNJAB103,464
  • CHHATTISGARH93,351
  • JHARKHAND75,089
  • CHANDIGARH70,777
  • JAMMU & KASHMIR67,510
  • UTTARAKHAND43,720
  • GOA29,879
  • PUDUCHERRY24,227
  • TRIPURA23,786
  • HIMACHAL PRADESH13,049
  • MANIPUR9,376
  • NAGALAND5,671
  • MEGHALAYA4,961
  • LADAKH3,933
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS3,712
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2,965
  • SIKKIM2,548
  • MIZORAM1,713
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
vikas-dubey-encounter-inside-story-madhya-pradesh-ujjain-up-kanpur-prsgnt

विकास दुबे एनकाउंटर: यूपी पुलिस ने ऐसे रची कमजोर कहानी, मीडिया को रोकना पड़ गया भारी

  • Updated on 7/10/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स के साथ एनकाउंटर में मारा गया। पुलिस ने बताया कि वो भाग रहा था और उसने पुलिस पर गोली चलाई इसलिए उसपर भी गोली चलानी पड़ी, जिसके बाद उसकी मौत हो गई।

लेकिन पुलिस ने इस एनकाउंटर को लेकर जो कहानी मीडिया को बताई वो काफी कमजोर नजर आ रही है। आईये नजर डालते हैं।

पुलिस का इकबाल कायम हुआ: विकास दुबे के एनकाउंटर पर UP के पूर्व DGP

पुलिस ने सुनाई ये कहानी
ये पूरी घटना शुक्रवार सुबह की है जब एसटीएफ की गाड़ी विकास दुबे को एमपी के उज्जैन से लेकर कानपुर लौट रही थी। पुलिस ने बताया कि उस वक़्त गाड़ी की रफ्तार तेज थी और बारिश के बाद रोड पर काफी ज्यादा फिसलन थी। कानपुर में पुलिस ने एंट्री की ही थी कि अचानक गाड़ी पलट गई।

पुलिस ने बताया कि गाड़ी पलटने से विकास और कई पुलिसकर्मियों को चोट आई लेकिन विकास को भागने का वो सही मौका लगा और उसने एसटीएफ के एक जवान की बंदूक छीनी और भागने की कोशिश की। इसी के साथ एनकाउंटर शुरू हो गया। फिर एसटीएफ ने विकास से हथियार फेंक कर सरेंडर करने को कहा लेकिन उसने एक न सुनी और फिर मजबूर होकर पुलिस को उस पर गोली चलानी पड़ी। जिसके बाद उसे गोली लगी और उसी मौत हो गई।

विकास की मौत पर कोर्ट में कोई सफाई नहीं देगी यूपी पुलिस, ऐसे मिला फायदा

क्यों सड़क के रास्ते लाया गया
पुलिस ने विकास को उज्जैन में पकड़ा। इसके बाद चर्चा थी कि उसे उज्जैन में मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा, लेकिन यहां तस्वीर पलटी और फिर उसे यूपी एसटीएफ के हवाले कर दिया गया। इसके बाद फिर चर्चा हुई कि विकास दुबे को चार्टर्ड प्लेन से कानपुर ले जाया जाएगा लेकिन शाम को फिर तस्वीरे बदली और उसे सड़क के रास्ते ले जाया गया और फिर सड़क के रास्ते हादसा हुआ।

कानपुर वापस लाकर किया विकास दुबे का एनकाउंटर, UP पुलिस का बदला पूरा?

मीडिया को रोकती रही पुलिस
पुलिस की कहानी अगर स्वाभाविक है तो फिर पुलिस ने मीडिया को अपने पीछे आने से क्यों रोका। इस बारे में एक चैनल की पूरी टीम को पुलिस ने कई बार उज्जैन से ही रास्तेभर पीछे आने से मना किया, उनके साथ हाथापाई भी की और मीडियाकर्मियों की गाड़ी की चाबी भी छिनी गई।

इतना ही नहीं उन्हें दूर करने के मकसद में पुलिस कामयाब भी रही और फिर जब मीडिया काफी समय बाद करीब पहुंची तब तक एनकाउंटर को अंजाम दिया जा चुका था। इस बात ये तो ये साफ़ जाहिर होता है कि पुलिस एनकाउंटर करने का मौका तलाश रही थी लेकिन मीडिया पीछे थी इसलिए वो उन्हें रोकने में लगी रही ताकि अपने काम को अंजाम दे सके।

वहीँ, एसएसपी कानपुर के बयान की माने तो कानपुर आ रही पुलिस की गाड़ी का कुछ गाड़ियां पीछा कर रही थी और उनसे बचने के लिए एसटीएफ ने गाड़ी की स्पीड को बढ़ा दिया और फिर एक्सीडेंट हो गया, जिससे गाड़ी पलट गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.