Tuesday, Jul 05, 2022
-->
was-offering-namaz-standing-on-the-tricolor-cisf-caught-him-and-handed-him-over-to-the-police

तिरंगे पर खड़े होकर अदा कर रहा था नमाज, सीआईएसएफ ने पकड़ किया पुलिस के हवाले

  • Updated on 5/21/2022

पुलिस ने राष्ट्रीय सम्मान के अपमान की रोकथाम अधिनियम 1971 के तहत मामला दर्ज किया मामला
- आईजीआई एयरपोर्ट पुलिस ने गिरफ्तार कर ने के बाद थाने से दी जमानत, पासपोर्ट किया जब्त
नई दिल्ली/टीम डिजिटल।

दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट की सुरक्षा में तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ)के कर्मियों ने एक असम के शख्स को उस समय पकड़ा जब वह तिरंगे पर खड़े होकर नमाज अदा कर रहा था। आरोपी असम के रहने वाले मोहम्मद तारिक अजीज को पकड़ कर आईजीआई एयरपोर्ट पुलिस के हवाले कर दिया गया, जहां उसके खिलाफ राष्ट्रीय सम्मान के अपमान की रोकथाम अधिनियम 1971 के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया। बाद में उसे थाने से ही जमानत पर रिहा कर दिया गया, पर उसका पासपोर्ट पुलिस ने जब्त कर लिया है।
जानकारी के अनुसार हर घटना 8 मई की है। आरोपी अजीज इंडिगो एयरलाइन की फ्लाइट संख्या 6ई-24 से दुबई से दिल्ली के इंटरनेशनल एयरपोर्ट टर्मिनल 3 पर पहुंचा था। वहां से सुबह उसे इंडिगो एयरलाइन की ही फ्लाइट संख्या 6ई-5398 से आगे दिल्ली से दीमापुर जाना था। देर रात करीब 12.50 बजे तैनात सीआईएसएफ के जवानों ने देखा कि टर्मिनल के बोर्डिंग गेट 1 और 3 के बीच वह नमाज पढ़ रहा, वह नमाज पढने के लिए जमीन पर तिरंगा बिछा रखा था। उसके द्वारा राष्ट्रीय ध्वज का अनादर किए जाने व उसकी हरकत संदिग्ध और अवांछनीय पाए जाने पर तत्काल उसे दबोच लिया। जब उससे उसके इस इस हरकत के बारे में पूछा गया तो वह कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। इसके बाद उसे आईजीआई एयरपोर्ट पुलिस के हवाले कर दिया गया।
सीआईएसएफ द्वारा दी गई शिकायत और टेक्निकल सबूतों के आधार पर आईजीआई पुलिस ने आरोपी के खिलाफ राष्ट्रीय सम्मान के अपमान की रोकथाम अधिनियम, 1971 के तहत मामला दर्ज कर लिया। साथ ही पुलिस ने उसका पासपोर्ट जब्त करने के साथ ही उसके बोर्डिंग पास की एक फोटोकॉपी और वह तिरंगा भी जब्त कर लिया है, जिसपर वह नमाज अदा कर रहा था। वैसे जमानतीय मामला होने के कारण उसे थाने से ही जमानत मिल गई पर उसे सीआरपीसी की धारा 41 के तहत नोटिस दिया गया है। जिसमें उसे जांच अधिकारी के समक्ष पूछताछ के लिए उपस्थित होना होगा। यदि इस आदेश का पालन नहीं किए जाने पर उसे गिरफ्तार किया जा सकता है। वहीं आरोप साबित होने के बाद तीन साल तक की सजा या जुर्माना या दोनों हो सकता है।

क्या है आरोपी पर दर्ज मामला

आरोपी के खिलाफ दर्ज मामला राष्ट्रीय सम्मान के अपमान की रोकथाम अधिनियम, 1971 उसके खिलाफ दर्ज किया जाता है जिसपर सार्वजनिक स्थान पर या किसी अन्य स्थान पर सार्वजनिक दृश्य में राष्ट्रीय ध्वज को जलने, विकृत करने, नष्ट करने और रौंदने का आरोप होता है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.