Monday, Aug 08, 2022
-->
when-there-was-a-ruckus-on-the-peg-the-dead-body-was-burnt-after-killing-the-divyang-

पैग पर हुई रार तो दिव्यांग की हत्या कर पहचान छिपाने को जला दिया शव

  • Updated on 11/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नंदग्राम थानाक्षेत्र के हरवंश नगर में शराब पीने के दौरान पैग को लेकर हुए विवाद में तीन युवकों ने साथी दिव्यांग की हत्या कर दी। इतना ही नहीं आरोपियों ने दुस्साहस दिखाते हुए मृतक की पहचान छिपाने के लिए शव को जला भी दिया। पुलिस का कहना है कि हत्यारोपियों ने पहले दिव्यांग के गले पर पेचकस से कई वार किए और फिर उसकी जैकेट की हुड में लगी डोरी से गला घोटकर उसे मौत के घाट उतार दिया। इस मामले में पुलिस ने मृतक के तीन साथियों को गिरफ्तार कर लिया है। उनकी निशानदेही पर पुलिस ने घटनास्थल से मृतक की हड्डियां बरामद की हैं। पुलिस आलाकत्ल पेचकस बरामद करने का प्रयास कर रही है। 


मेरठ रोड स्थित हरवंश नगर कॉलोनी में 25 वर्षीय सचिन उर्फ सुदामा पुत्र स्व.भौरम सिंह अपने तीन भाइयों सोनू, संदीप और विशाल के साथ रहता था। सुदामा सिहानी रोड स्थित मेटल फैक्ट्री में काम करता था। सुदामा एक पैर से दिव्यांग था। भाई संदीप ने बताया कि 22 नवम्बर की रात करीब 10 बजे पड़ोस में रहने सुदामा के तीन दोस्त रवि उर्फ गंजा, विवेक राघव और सौरभ जाटव उसे घर से बुलाकर ले गए थे। जिसके बाद सुदामा रात भर घर नहीं लौटा। घर न लौटने पर संदीप ने नंदग्राम थाने में सुदामा की गुमशुदगी दर्ज करा दी। साथ ही पुलिस को बताया कि उक्त तीन दोस्त सुदामा को घर से बुलाकर ले गए थे। पुलिस ने जब उक्त तीनों दोस्तों को पकड़ कर पूछताछ की तो सुदामा की हत्या का राज खुलकर सामने आया। जिसके बाद पुलिस ने रवि, विवेक और सौरभ को गिरफ्तार कर लिया। 


हत्या से एक दिन पूर्व भी हुआ था सुदामा का दोस्तों से झगड़ा
आरोपियों से पूछताछ के बाद पुलिस को पता चला कि हत्या से एक दिन पूर्व 21 नवम्बर को भी शराब पीने के दौरान हत्यारोपियों का सुदामा से झगड़ा हुआ था। आपस में कहासुनी के बाद सभी दोस्त अपने अपने घर चले गए थे। इस झगड़े का बदला लेने के लिए ही तीनों हत्यारोपी 22 नवम्बर की रात करीब 10 बजे सुदामा के घर पहुंचे और उसे बहाने से बुलाकर अपने साथ ले गए। चारों दोस्त हरवंश नगर स्थित गड्ढ़ों में पहुंचे। वहां भी शराब पीने के दौरान फालतू पैग को लेकर तीनों हत्यारोपियों का सुदामा से झगड़ा हो गया। पुलिस की मानें तो इसी झगड़े के बाद तीनों दोस्तों ने मिलकर पहले सुदामा के गले पर पेचकस से वार किए और फिर उसकी जैकेट में लगी डोरी से उसकी गला घोटकर हत्या कर दी। 


पहचान छिपाने को देर रात ढाई बजे जला दिया शव 
पुलिस का कहना है कि हत्यारोपियों ने मृतक की पहचान छिपाने के लिए उसके शव को देर रात करीब ढाई बजे जला दिया। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि शव को जलाने के लिए उन्होंने गड्ढों में  रखे उपलों का इस्तेमाल किया और जब शव पूरी तरह से जलकर राख हो गया तो वह मौके से फरार हो गए। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर चिता से मृतक सुदामा की हड्डियां बरामद की हैं। जिन्हें डीएनए मिलान के लिए फॉरेंसिक लैब भेजने की बात कही जा रही है। 


भाई सोनू न पहचानता तो पुलिस के लिए होती मुश्किल
सुदामा के दूसरे भाई सोनू ने बताया कि 22 नवम्बर को जब रवि, विवेक और विशाल उसके भाई को घर से बुलाने आए थे तो घर में ही खाना खा रहा था। इस दौरान सोनू ने तीनों दोस्तों की पहचान कर ली थी। सुदामा के घर न लौटने पर सोनू ने उक्त तीनों दोस्तों के बारे में पुलिस को जानकारी दी थी। माना जा रहा है कि अगर सोनू उक्त दोस्तों की पहचान कर पुलिस को न बताता तो सुदामा की हत्या का राज खोलने में पुलिस को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता था। साथ ही शव बरामद न होने पर सुदामा की गुमशुदगी पुलिस के रिकॉर्ड में ही दर्ज रह सकती थी। 


वर्जन
एसएचओ नंदग्राम अमित कुमार का कहना है कि सुदामा की हत्या करने वाले रवि उर्फ गंजा, विवेक राघव और सौरभ जाटव को गिरफ्तार कर लिया गया है। तीनों आरोपियों ने सुदामा की हत्या करने का जुर्म कुबूल किया है। घटनास्थल से मृतक की हड्डियां बरामद की गई हैं। आलाकत्ल पेचकस बरामद करने का प्रयास किया जा रहा है। घटनास्थल से मिली हड्डियों को डीएनए मिलान के लिए फॉरेंसिक लैब भेजा जाएगा। लैब से रिपोर्ट आने के बाद स्पष्ट हो पाएगा कि मौके से मिली हड्डियां सुदामा की थी या नहीं। इस मामले की जांच जारी है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.