Friday, Dec 09, 2022
-->
yeti narasimhanand created panic again, ghaziabad police stopped him from going to rajghat

यति नरसिंहानंद ने फिर मचाई खलबली, गाजियाबाद पुलिस ने राजघाट जाने से रोका, हिरासत में लिया

  • Updated on 9/20/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। हिंदुओं को सिर तन से जुदा करने की निरंतर धमकी मिलने के विरोध में श्रीपंचदशनाम जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरी ने मंगलवार को तीखे तेवर दिखाए। राजघाट पर एक दिवसीय उपवास पर बैठने के लिए उन्होंने कुछ समर्थकों के साथ दिल्ली की तरफ कूच कर दिया। 

इस दरम्यान यूपी गेट पर गाजियाबाद पुलिस ने उन्हें रोक लिया। माहौल बिगड़ने का हवाला देकर उन्हें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के समाधि स्थल पर जाने की इजाजत नहीं दी गई। राजघाट जाने की जिद पर अडिग यति नरसिंहानंद व 2 संतों को हिरासत में ले लिया गया। उन्हें कौशाम्बी थाने में लाकर कई घंटे तक सघन निगरानी में रखा गया। 

इस बीच दिल्ली एवं गाजियाबाद के पुलिस अधिकारी एक-दूसरे से संपर्क में रहे। महामंडलेश्वर एवं शिव शक्ति धाम डासना के पीठाधीश्वर यति नरसिंहानंद गिरी के नए स्टैंड ने कई घंटे तक पुलिस-प्रशासन को सकते में डाले रखा। यति नरसिंहानंद मंगलवार की सुबह कुछ समर्थकों संग दिल्ली जाने के लिए निकल पड़े। 

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर एक दिवसीय उपवास करने के इरादे से उन्होंने यह कदम उठाया। इसकी जानकारी मिलने पर कौशाम्बी पुलिस ने उन्हें यूपी गेट पर रोक लिया। माहौल बिगड़ने की आशंका का हवाला देकर पुलिस ने उन्हें राजघाट जाने की अनुमति नहीं दी। 

ऐसे में पुलिस से यति नरसिंहानंद व उनके समर्थकों की झड़प भी हो गई। बाद में उन्हें हिरासत में लेकर कौशाम्बी थाने लाया गया। थाने के बाहर उनके समर्थकों ने हंगामा कर दिया। कई घंटे तक यह मामला गर्माए रहा। नरसिंहानंद का कहना है कि समूचे विश्व में हिंदुओं पर अत्याचार हो रहा है। 

इसके खिलाफ उन्होंने गांधी समाधि पर उपवास करने और गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिखने का निर्णय लिया था। हिंदुओं को सिर तन से जुदा करने की धमकियां मिल रही हैं। बता दें कि यति नरसिंहानंद महात्मा गांधी के कट्टर आलोचक माने जाते हैं। 

वह समय-समय पर गांधी जी के खिलाफ बयान देते रहे हैं। पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने पर उन्होंने आरोप लगाया कि देश में हिंदुओं की दुर्दशा के पीछे महात्मा गांधी की विचारधारा है, जो आज हर राजनेता का वैचारिक आदर्श बन चुका है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.