Thursday, Sep 29, 2022
-->

बिना लाइसेंस के 167 स्कूलों में अवैध रूप से चल रही कैंटीन

  • Updated on 1/25/2017

Navodayatimes

नई दिल्ली/आशु मिश्रा। साउथ दिल्ली यूनसिपल कॉरपोरेशन(एसडीएमसी) के अंतर्गत नजफगढ़ में 167 पब्लिक स्कूल में पढऩे वाले स्कूली बच्चों की जिंदगी खतरे में है।

 प्रोटेबल वेंटिलेटर के बिना अस्पताल बना आशियाना

यहां के पब्लिक स्कूलों में चल रही कैंटीन में बच्चों को किस गुणवत्ता के खाद्य पदार्थ परोसे जा रहे हैं, इसकी निगरानी रखने वाला कोई नहीं है। न तो एसडीएमसी को इसकी जानकारी है और न ही एसडीएमसी के हेल्थ डिपार्टमेंट को कोई सूचना। जबकि नियम के अनुसार एसडीएमसी के हेल्थ डिपार्टमेंट की ओर से ही स्कूलों में कैंटीन संचालन के लिए लाइसेंस जारी किया जाता है। इस बात का खुलासा 14 जनवरी को जारी हुए कॉरपोरेशन के ऑडिट रिपोर्ट में हुआ है।

ऑडिट रिपोर्ट में संबंधित विभागों के अधिकारियों के बारे में कहा गया है कि इनकी लापरवाही से कभी भी स्कूलों में कोई बड़ी घटना घट सकती है, जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। जिम्मेदारों ने इस इलाके में पब्लिक स्कूलों में अवैध रूप से चल रहे कैंटीनों का न तो कभी दौरा किया न ही इनके खिलाफ कोई कार्रवाई की। इस संबंध में जब कमिश्नर डॉ पुनीत से बात करने की कोशिश की गई तो उनका फोन नहीं उठा। 

लग्जरी बसों से बैट्रियां चोरी करने वाले दो गिरफ्तार

विभाग को हुआ पांच लाख का नुकसान: अफसरों की इस सुस्ती के चलते एसडीएमसी को अब तक पांच लाख रुपए तक नुकसान हो चुका है। यह हालात तब हैं जब पहले ही फंड की कमी के कारण कर्मचारियों को सैलरी देने में दिक्कतें आ रही हैं।

नहीं मिला जवाब

इस संबंध में लापारवाह अफसरों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया था। लेकिन आज तक 
अफसरों ने इस संबंध में कोई जवाब नहीं दिया।

क्या है नियम

डीएमसी एक्ट के सेक्शन 421,1957 के तहत कैफे, रेस्टोरेंट जैसी जगहों पर जहां पब्लिक को खाद्य और पेय पदार्थ बेचे जाते हैं, उसके लिए लाइसेंस लेना जरूरी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.