Friday, Jan 21, 2022
-->
20 anti-smog guns to be installed at high pollution intersections

राहतः ज्यादा प्रदूषण वाले चौराहों पर लगाई जाएंगी 20 एंटी- स्मॉग गन

  • Updated on 11/6/2021

नई दिल्ली। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने शुक्रवार को कहा कहा कि दिल्ली की वायु गुणवत्ता पराली और पटाखे जलाने के कारण खराब हुई है। क्योंकि दिल्ली का जो बेस प्रदूषण का स्तर पहले था, वही अब भी है। उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्यों में पिछले सप्ताह एक हजार जगहों पर पराली जलाई जा रही थी, लेकिन वीरवार से 3500 से अधिक जगहों पर पराली जलाई जा रही है। उन्होंने कहा कि पराली जलने की घटनाओं का असर साफ दिख रहा है।

पर्यावरण मंत्री ने कहा कि दिल्ली की सड़कों पर बड़ी एंटी-स्मॉग गन से पानी के छिडक़ाव की शुरूआत कर दी गई है और अधिक प्रदूषण वाले चौराहों व सड़कों पर 20 बड़ी घूमने वाली एंटी-स्मॉग गन लगाई जाएंगी। पर्यावरण मंत्री ने आईटीओ के पास लगाई गई एंटी-स्मॉग गन का निरीक्षण भी किया।

दिल्ली में धूल प्रदूषण फैलाने पर 92 निर्माण साइटों को किया बंद

 पर्यावरण मंत्री ने कहा कि दिल्ली के लोगों के हम शुक्रगुजार हैं कि बड़े स्तर पर लोगों ने पटाखे नहीं जलाए और इसकी वजह से थोड़ी राहत है। उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ लोगों ने जानबूझकर पटाखे फोड़े और भाजपा ने उनसे यह सब करवाया। पर्यावरण मंत्री ने कहा कि जब से पटाखा पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा हुई, तभी से विपक्ष बयानबाजी कर रहा था। जबकि बार-बार वैज्ञानिक कह रहे हैं कि पटाखे से प्रदूषण होता है।

उन्होंने कहा कि दो दिन पहले तक वायु गुणवत्ता का जो स्तर था, वह आज नहीं है। उसमें सिर्फ  दो ही चीजें पराली और पटाखे ही जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि पराली जलने की घटनाएं आगामी एक-दो दिनों में और बढ़ेगी। एजेंसियों के अनुमान दिखा रहे हैं कि बारिश की वजह से पराली जलना बंद हुई थी, वह अब तेजी के साथ शुरू हुई है। इसलिए हमारा प्रयास है कि दिल्ली के अंदर के प्रदूषण को कम करें।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के अंदर प्रदूषण के खिलाफ  जो अभियान चल रहा है उसका अक्तूबर के महीने में काफी सकारात्मक परिणाम दिखा था। दिल्ली में पिछले 5 साल में सबसे कम प्रदूषण अक्तूबर के महीने में रहा, लेकिन पिछले 3 दिनों से लगातार प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है।

comments

.
.
.
.
.