Wednesday, Dec 07, 2022
-->
90-of-corona-patients-admitted-in-hospitals-have-not-applied-booster-dose

अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों में 90 फीसदी ने नहीं लगवाई है बूस्‍टर डोज

  • Updated on 8/17/2022

--सिर्फ 10 फीसद मरीज ही वैक्सीनेशन की तीसरी डोज के बाद कोरोना संक्रमित हुए  
नई दिल्ली। दिल्ली में कोविड-19  वैक्सीन की प्रीकॉशनरी (बूस्टर) डोज लगवाने वाले लोगों में वायरस का संक्रमण अन्य लोगों की तुलना में कम है। अस्पतालों में भर्ती होने वाले 90 फीसदी कोरोना संक्रमित मरीज ऐसे हैं, जिन्होंने केवल वैक्सीन की दो डोज ली है। जबकि सिर्फ 10 फीसद मरीज ही वैक्सीन की तीसरी डोज के बाद कोरोना वायरस से संक्रमित हुए। ऐसे में कोरोना से दिल्लीवालों को सुरक्षित रखने के लिए दिल्ली सरकार ने वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज कर दी है। कोविड वैक्सीनेशन में और तेजी लाने के लिए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व  जिलाधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में मौजूद मुख्य सचिव नरेश कुमार ने जिलाधिकारियों को मेट्रो स्टेशनों, बजारों व मॉल्स जैसी भीड़ वाली जगहों पर लगाए जाने वाले वैक्सीनेशन कैंप की स्थिति जानने के लिए ग्राउंड पर जाने के निर्देश दिए।

उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली सरकार कोरोना की स्थिति पर  लगातार नजर बनाए हुए है। सभी अस्पतालों को अलर्ट पर रहने को कहा गया है। सरकार ने पहले ही हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर कर लिया है। सिसोदिया ने कहा कि अब लोगों में लापरवाही देखने को भी मिल रही और बहुत से लोग प्रीकॉशनरी डोज नहीं ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में भर्ती होने वाले कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या से मालूम होता है कि प्रीकॉशनरी डोज लगाने वाले लोग कोरोना के संक्रमण से ज्यादा सुरक्षित है। उपमुख्यमंत्री ने लोगों से जल्द से जल्द वैक्सीन की बूस्टर डोज लगवाने की अपील करते हुए कहा कि इलाज से बेहतर रोकथाम है। सिसोदिया ने कहा कि भले ही दिल्ली में कोरोना की स्थिति सामान्य है। और इस बीमारी से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए सरकार लगातार काम कर रही है।




 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.