Friday, Jul 01, 2022
-->
Akali Dal appeals to Delhi Police to save party office

शिरोमणी अकाली दल ने पार्टी कार्यालय बचाने के लिए दिल्ली पुलिस में लगाई गुहार

  • Updated on 4/28/2022

नई दिल्ली/ नेशनल ब्यूरो : शिरोमणी अकाली दल (बादल) ने गुरुद्वारा श्री रकाबगंज परिसर में स्थित पार्टी कार्यालय को बचाने के लिए दिल्ली पुलिस से गुहार लगाई है। इसको लेकर पार्टी ने दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। साथ ही आरोप लगाया है कि अकाली दल छोडऩे वाले कुछ नेता उनके कार्यालय पर अवैध कब्जा करने की कोशिश कर रहे हैं। इसको लेकर अकाली दल के वरिष्ठ नेता बलविंदर सिंह भूंदड़, महेश इंदर सिंह ग्रेवाल, शरणजीत सिंह ढिल्लों, डॉ. दलजीत सिंह चीमा, सुरजीत सिंह रखड़ा, विरसा सिंह वल्टोहा, बीबी रंजीत कौर, एस एस बब्बर ने डीसीपी, नई दिल्ली से मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने कानून प्रवर्तन एजेंसियों से अकाली दल कार्यालय का कामकाज किसी तरह से बाधित न हो यह सुनिश्चित करने के लिए उचित कार्रवाई करने की मांग की।
   अकाली दल ने सिंख बंदियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने और उनकी शीघ्र रिहाई के लिए अरदास करने के लिए परिसर में अखंड पाठ की शुरूआत की। समुदाय उन सिख बंदियों की रिहाई का इंतजार कर रहा है, जिन्होंने जेल में उम्रकैद से अधिक की सजा काट ली है, और  2019 में श्री गुरु नानक देव जी की 550वीं वर्षगांठ के अवसर पर केंद्र द्वारा इसे मंजूरी दिए जाने के बाद भी रिहा नही किया गया है। शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना ने भी इस अवसर पर मत्था टेका और सिंह बंदियों की रिहाई के लिए अपना अटूट समर्थन दिया। इस मौके पर डॉ. दलजीत सिंह चीमा औरर विरसा सिंह वल्टोहा ने कहा कि सिख समुदाय इस बात से निराश है कि  बलवंत सिंह राजोआणा और प्रो. दविंदरपाल सिंह भुल्लर सहित सिख बंदियों को श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी के प्रकाश पर्व पर रिहा नहीँ किया गया है जिसे हाल ही में केंद्र द्वारा मनाया गया था। उन्होने कहा, पूरे सिख समुदाय को उम्मीद थी कि इस अवसर सिख बंदियों को रिहा कर दिया जाएगा। अब हमें पूरी उम्मीद है कि 30 अप्रैल तक ऐसा हो जाएगा, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को बलंवत सिंह राजोआणा की दया याचिका पर फैसला लेने का निर्देश दिया दिया था।

comments

.
.
.
.
.