Sunday, Jan 23, 2022
-->
Arvind forgot by making promises like Punjab to the teachers of Delhi

पंजाब जैसे वादे दिल्ली के शिक्षकों से कर के भूल गए अरविंद: चौ. अनिल कुमार

  • Updated on 11/28/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस ने हैरानी जताते हुए कहा है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद पंजाब में जाकर संविदा शिक्षकों से झूठे वायदे कर रहे हैं कि अगर उनकी सरकार सत्ता में आती है तो वे वहां के सभी अस्थाई शिक्षकों को स्थाई कर देंगे जबकि वे सात साल पहले अपने चुनावी घोषण पत्र में दिल्ली के अतिथि शिक्षकों से भी ये वादे कर चुके हैं जो आज तक पूरे नहीं हुए। 
    यह कहते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने कहा कि इतना ही नहीं, कोरेाना महामारी लॉकडाउन के दौरान, सीएम अरविंद ने सरकारी स्कूलों के प्रधानाचार्यों पर तदर्थ शिक्षकों को नौकरी से हटाने के लिए भी दबाव बनाया। उन्होंने कहा कि अरविंद पंजाब की सत्ता हासिल करने के लिए पंजाब में जाकर वहां की जनता से झूठे वायदे कर रहे हैं। हाल ही में जारी एक राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण रिपोर्ट के हवाले से कहा कि दिल्ली में 25 प्रतिशत छात्र सुविधाओं की कमी के कारण कोरोना के दौरान ऑनलाइन कक्षाओं तक नहीं पहुंच सके, जिसके कारण ऐसे बच्चों की शिक्षा पर बूरा असर पड़ रहा है।
     उन्होने कहा कि कई परिवारों की आर्थिक स्थिति इतनी कमजोर की दी है कि प्रतिष्ठित निजी स्कूलों के 1.50 लाख से अधिक छात्रों को दिल्ली सरकार और एमसीडी के स्कूलों में दाखिला लेने के लिए मजबूर होना पड़ा, क्योंकि उनके माता-पिता कोरेाना से आर्थिक तंगी की वजह से फीस नहीं दे पाए और अरविंद सरकार ने ऐसे कोरोना से त्रस्त परिवारों की कोई आर्थिक मदद नहीं की है। 
     अनिल कुमार ने पट्रोल पर दरें कम न होने के लिए कहा कि पंजाब समेत कई राज्य सरकारों ने ईंधन पर वैट कम कर दिया लेकिन दिल्ली की अरविंद सरकार जनता को आश्वासन के अलावा और कुछ नहीं दे रही है। उन्होने निगम में सत्ताशीन भाजपा को भी निशाने पर लिया और कहा कि आज जहां लोगों की कमाई घट रही है निगम टैक्स बढ़ा रहा है और कांग्रेस इसका विरेाध करेगी। 
 

comments

.
.
.
.
.