Wednesday, Dec 07, 2022
-->
bike-riders-and-pedestrians-account-for-85-percent-of-road-accident-deaths-in-delhi

दिल्ली में सड़क हादसे से होने वाली मौतों में 85 प्रतिशत बाइक सवार और पैदल यात्री

  • Updated on 9/10/2022

--दिल्ली में शुक्रवार, शनिवार व रविवार की रात 10 बजे से रात 12 बजे के बीच होती है सर्वाधिक सड़क दुर्घटनाएं
नई दिल्ली / ताहिर सिद्दीकी।: दिल्ली में सड़क दुर्घटनाओं से होने वाली मौतों में सबसे  ज्यादा संख्या मोटरसाइकिल सवार और पैदल यात्रियों की होती है। कुल दुर्घटना में 43 प्रतिशत मोटरसाइकिल सवार और 42 प्रतिशत पैदल यात्रियों की संख्या होती है। दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग ने 2021 के दौरान रोड सुरक्षा विषय पर अध्ययन कर निष्कर्ष निकाला है कि दिल्ली में सबसे ज्यादा दुर्घटना हल्के व भारी वाहनों द्वारा दोपहिया वाहनों को टक्कर मारने व पैदल यात्रियों को धक्का मारने से होती है। रिपोर्ट के अनुसार 2021 में कुल 1,199 सड़क हादसे में 1,238 मौत में 93 प्रतिशत पैदल यात्री, मोटरसाइकिल, साइकिल व ऑटो रिक्शा वाले हुए हैं। दिल्ली में सबसे अधिक सड़क दुर्घटना शुक्रवार, शनिवार व रविवार की रात 10 बजे से रात 12 बजे के बीच होती है। इसमें भी शनिवार की रात सबसे ज्यादा दुर्घटना व मौतें होती हैं। हिट एंड रन के 59 प्रतिशत मामले आए हैं।

रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2021 में राष्ट्रीय राजधानी में सडक़ दुर्घटना में 1068 पुरुषों व 131 महिलाओं की मृत्यु हुई। जिसमें 71 महिलाएं पैदल यात्री थीं। यह अध्ययन दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग ने ब्लूमबर्ग फिलानथ्रॉपी नामक संस्था के साथ मिलकर किया है, जिसका नाम दिल्ली रोड क्रैश फैटलिटी रिपोर्ट-2021 दिया गया है। बता दें कि दिल्ली में सडक़ सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने इस संस्था के साथ समझौता किया है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि हल्के व भारी वाहनों द्वारा टक्कर मारने के कारण 74 प्रतिशत दुर्घटनाएं हुई हैं। 44 प्रतिशत हादसों के लिए भारी वाहन जिम्मेदार थे और 40 प्रतिशत घातक हादसों में टक्कर मारने वाले वाहनों का पता नहीं चल सका। सडक़ हादसे में  20 से 39 वर्ष के बीच व पचास से 54 वर्ष के बीच के लोग सबसे ज्यादा शिकार होते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि राजधानी में सबसे  ज्यादा दुर्घटना वाले स्थानों को चिन्हित किया गया है। सरकार सडक़ों को सुरक्षित बनाने की दिशा में दुर्घटना वाले 14 प्रमुख चौराहों को री-डिजाइन करने पर काम कर रही है। बता दें कि जीटी करनाल रोड-आजादपुर चौक-सिंघु बार्डर, आउटर रिंग रोड, रिंग रोड बाइपास आईजी स्टेडियम गेट नंबर 6, रोहतक रोड-पंजाबी बाग मेट्रो स्टेशन-टिकरी बार्डर, एनएच-8 दिल्ली-हरियाणा दक्षिण पश्चिम बार्डर से प्रताप चौक दिल्ली छावनी, वजीराबाद रोड, नजफगढ़ रोड, मेहरौली-बदरपुर रोड, नेताजी सुभाष मार्ग, मथुरा रोड, पंखा रोड, विकास मार्ग व न्यू रोहतक रोड आदि पर सबसे ज्यादा सडक़ दुर्घटना होती है। परिवहन आयुक्त आशीष कुंद्रा ने कहा कि सडक़ दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए सरकार लगातार काम कर रही है।  
---
सडक़ हादसे और मौतें
वर्ष          दुर्घटनाएं    मौतें
2012      1822    1866
2013     1778     1820
2014      1629    1671
2015    1582    1622
2016     1548    1591
2017      1565      1584
2018       1657      1690
2019       1433     1463
2020         1163    1197
2021         1199    1238
 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.