Monday, Aug 02, 2021
-->

ओला-ऊबर के खिलाफ सड़क पर उतरे कैब चालक

  • Updated on 11/8/2016

Navodayatimesनई दिल्ली, (ब्यूरो): ओला-ऊबर दोनों ही कम्पनियां परेशानी में पड़ने वाली हैं। कारण है सोमवार से दोनों ही कंपनियों से जुड़े कैब चालकों ने अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जाने का ऐलान कर दिया है। कैब यूनियन के प्रधान दिनेश कुमार ने दोनों ही कंपनियों पर आरोप लगाया है कि कंपनी की तरफ से मनमानी की जा रही है।

ये भी पढ़ें-नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी

कंपनी ने शुरूआत में तरह-तरह के सपने दिखाए थे। अच्छी स्कीम का ऑफर पा कर महज कुछ माह के अंदर ड्राईवरों ने हजारों वाहन लोन पर लिए और कंपनी में टेक्सी के रुप में लगा दिए। अब ये दोनों कंपनियां अपने निजी वाहनों को चलाने के लिए पहले से टेक्सी चला रहे कैब चालकों पर पेनल्टी लगा रही है। 

आरोप है कि जब कोई ग्राहक कैब बुक करता है और चालक के पहुंचने से पहले बुकिंग कैंसल कर देता है तो कंपनी चालक पर 500 व उससे अधिक की भी पेनाल्टी लगा देती है। कई बार तो वाहनों को 2 से 3 दिन के लिए ऑफरोड मतलब बंद कर दिया जाता है। इसके बाद उन्हें कंपनी के दो-तीन दिन चक्कर लगाने के बाद दोबारा काम मिल पाता है।

आरोप है कि यह सब महज ज्यादा फायदा कमाने के चक्कर में किया जा रहा है। इसके अलावा उन्हें कंपनी की निश्चित पॉलसी के तहत पैसे नहीं दिए जा रहे हैं। पॉलसी के चक्कर में कंपनी चूना लगाने का काम कर रही है। दिनेश ने बताया कि कंपनी ने शनिवार तक का समय मांगा है। फिलहाल जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं होती तब तक ओला-ऊबर कंपनी की एक भी गाड़ी सड़क पर नहीं चलेगी।

ये भी पढ़े-अब 2 मिनट में बुक करें तत्काल टिकट

वहीं दूसरी ओर सोमवार को एक्सप्रेस-वे के दिल्ली गुड़गांव बार्डर पर चालकों ने अपने वाहन खड़े करके जमकर प्रदर्शन किया। साथ ही सड़क पर चल रहे अन्य वाहन चालकों को रोक कर उन्हें हड़ताल पर जाने की जानकारी दी। दिनेश के मुताबिक मंगलवार से ओला-ऊबर के 50 हजार से भी अधिक कैब चालक पूरी तरह से हड़ताल पर रहेंगे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.